साहित्य अकादमी में पास हुआ निंदा प्रस्ताव, लेखकों से किया निवेदन अपने सम्मान वापस ले लें

0
138

आपको बता दें कि आज कुछ लेखकों ने सरकार के विरोध में मार्च निकाल कर लेखकों के ऊपर हो रहे लगातार हमलों का विरोध किया है और वहीं कुछ राष्ट्रवादी विचारधारा के लेखकों ने सरकार के समर्थन में भी मार्च निकाला और उन लेखकों के खिलाफ अपना विरोध जताया जो अपना सम्मान वापस कर रहे है I

सरकार के समर्थन में उतरे प्रसिद्ध लेखक नरेंद्र कोहली ने कहा है कि, “जो लेखक आज के माहौल में अपना सम्मान वापस कर रहे है यह तब कहा चले गए थे जब इंदिरा गाँधी ने पूरे देश में इमरजेंसी की घोषणा कर दी थी I उन्होंने कहा कि यह लेखक तब कहा चले गए थे जब जम्मू-कश्मीर से कश्मीरी पंडितों को उनकी जमीन से बेदखल किया जा रहा था और उन्हें कश्मीर छोड़ने पर विवश किया गया था I उन्होंने सम्मान वापस करने वाले लेखकों के रवैये पर प्रश्नचिन्ह लगाते हुए कहा कि जब पंजाब में आतंकवाद अपने चरम पर था तब इन लेखकों ने अपना सम्मान क्यों वापस नहीं किया I

नरेंद्र कोहली ने कहा कि जब इन लोगों ने तब अपना सम्मान अपने पास ही रखा था उसे वापस नहीं किया तो आज फिर ऐसा यह क्यों कर रहे है I हमें तो ऐसा लगता हैं कि सभी राजनैतिक कारणों से ही सम्मान वापस कर रहे है I आपको बता दें कि देश बढती हिंसा और असहिष्णुता की भावना को देखते हुए अब तक तक़रीबन 40 साहित्यकारों ने अपना साहित्य अकादमी पुरस्कार वापस कर दिया है I पुरस्कार वापस करने वाले लेखकों में हिंदी के जाने-माने लेखक उदय प्रकाश, नयन तारा सहगल, प्रसिद्ध शायर मुन्नवर राणा भी शामिल है I

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY