लम्बित शिकायतों के निस्तारण न होने तक तत्काल प्रभाव से वेतन रोके जाये जिलाधिकारी

0
74
फाइल फोटो

मैनपुरी (ब्यूरो) तहसील दिवस के एक माह पुराने लम्बित सन्दर्भ निस्तारित न होने पर उप जिलाधिकारी भोगावं, करहल, घिरोर, कुरावली, किशनी का लम्बित शिकायतों के निस्तारण न होने तक तत्काल प्रभाव से वेतन रोके जाने, राजस्व वसूली की खराब प्रगति, धारा 122 बी में कार्यवाही न करने पर तहसीलदार सदर, करहल, किशनी, घिरोर, कुरावली, भोगांव का भी वेतन अग्रिम आदेशों तक आहरित न किये जाने, 10 बड़े बकायादारो के विरूद्ध दण्डात्मक कार्यवाही कर बकाया राशि की वसूली करने, राजस्व के 05 वर्ष पुराने लम्बित वादो को तत्काल निस्तारित करने, सेवा निवृृत्त, मृत कर्मचारियो के पेंशन प्रकरणों को 15 दिन में निस्तारित करने, मत्स्य पालन हेतु तालाबो का आवंटन न किये जाने पर तहसीलदार सदर, कुरावली, भोगांव, किशनी को चेतावनी जारी करने, वृक्षारोपण के निर्धारित लक्ष्य को 15 जून तक पूर्ण करने के निर्देश दिये।

उक्त निर्देश जिलाधिकारी यशवन्त राव ने राजस्व कार्यो की समीक्षा के दौरान दिये । उन्होने विविध व्यय, बैंक देय अन्य देयो की वसूली की खराब प्रगति पर असन्तोष व्यक्त करते हुए कहा कि तहसीलदार अपना मूल कार्य नहीं रहे हैं, कुछ मदों में वसूली की प्रगति काफी निराशाजनक है । उन्होने नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि तहसीलदार अधीनस्थो पर कार्यवाही करें, नायब तहसीलदार, वसूली में लगे अमीनो से निर्धारित मानक के अनुसार वसूली करायें, स्वयं बड़े बकायादारो से वसूली करे जो अमीन मानक के अनुसार वसूली न करे उनके विरूद्ध दण्डात्कम कार्यवाही की जाये। उन्होने असन्तोष व्यक्त करते हुए कहा कि अभी विभिन्न विभागो में तहसील दिवस पर प्राप्त एक माह पुराने सन्दर्भ लम्बित है फिर भी उपजिलाधिकारियो द्वारा कोई कार्यवाही नहीं की गयी है। उन्होेन सचेत करते हुए कहा कि जिन विभागेां में शिकायते लम्बित है उनके विरूद्ध उपजिलाधिकारी कार्यवाही करें और लम्बित शिकायतो को तत्काल निस्तारित कराना सुनिश्चित करें।

श्री राव ने लम्बित वादो की समीक्षा करने पर पाया कि जनपद में काफी वाद लम्बित है, सभी पीठासीन अधिकारियेा को निर्देशित किया कि वह निर्धारित न्यायिक दिवसो में न्यायालय में बैठें और वादो को निस्तारित करें। उन्होने 05 वर्ष पुराने लम्बित वादो को प्राथमिकता पर निपटाये जाने के निर्देश दिये। उन्होने तहसीलदार कुरावली द्वारा कृषि भूमि आवंटन, कुम्हेरी कला, वृक्षारोपण हेतु चयनित भूमि को कम दिखाये जाने, तहसीलदार भोगांव द्वारा मात्र 0.415 हेक्टेयर भूमि दर्शाये जाने पर चेतावनी देते हुए स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने के निर्देश दिये। बैठक में अपर जिलाधिकारी बी.राम, समस्त उप जिलाधिकारी, तहसीलदार, कलेक्ट्रेट के अनुभाग प्रभारी आदि उपस्थित रहें।

इसके आलावन जिलाधिकारी ने बैठक के दौरान नगर निकायो की वसूली की खराब स्थिति पर नगर पालिका परिषद के मुहर्रिर ललित मोहन सक्सेना,परमेन्द्र कुमार,अनिल कुमार मिश्र,नगर पंचायत कुरावली के मुहर्रिर सर्वेश कुमार,सन्तोष कुमार,राहुल का वेतन रोकने, बैठक से अनुपस्थित अधिशासी अधिकारी बेवर राकेश सक्सेना का स्पष्टीकरण प्राप्त करने, चेयरमैन बेवर को बिना अनुमति के वेतन आहरित न करने, व्यापार कर की वसूली की प्रगति खराब पाये जाने पर आयुक्त व्यापार कर को पत्र लिखे जाने, अलौह खनन में खराब कार्य पर खनन अधिकारी का स्पष्टीकरण प्राप्त करने, एआरटीओ की तैनाती हेतु आयुक्त परिवहन को पत्र लिखे जाने, विद्युत चोरी रोकने में असफल अवर अभियन्ता,लाईनमैन के विरूद्ध प्रभावी कार्यवाही के आदेश दिये ।

उन्होने नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि व्यापार कर की वसूली 15 मई के बाद 8.3 प्रतिशत घटी है, विभाग द्वारा प्रवर्तन में कोई कार्य नहीं किया जा रहा है, विभाग के अधिकारी न तो मुख्यालय रहते हैं और ना ही कोई कार्य कर रहे हैं जिसका दुष्परिणाम है कि वसूली की प्रगति लगातार घट रही है। उन्होने असन्तोष व्यक्त करते हुए व्यापार कर के अधिकारियों के विरूद्ध आयुक्त व्यापार कर को कार्यवाही हेतु पत्र लिखे जाने को कहा। स्टाम्प एवं निबन्धन में भी लक्ष्य के सापेक्ष वसूली की स्थिति ठीक न मिलने पर एआईजी स्टाम्प से कहा कि वह वसूली सुधारें, जिन विभागों द्वारा किराये पर दुकाने,भवन आदि दिये जाते हैं उनके किरायेनामे रजिस्टर्ड कराये जायें ,जो विभाग किरायेनामा रजिस्टर्ड न कराये उसके विरूद्ध कार्यवाही की जाये श्री राव ने अलौह खनन में भी प्रगति खराब पाई, विभाग द्वारा अवैध खनन रोकने हेतु कोई प्रवर्तन का कार्य नहीं किया है। जनपद में लगातार अवैध खनन की शिकायते मिल रही है, कई भट्टा स्वामियों ने अभी तक रायल्टी भी जमा नहीं की है। 2016-17, 2017-18 की रायल्टी जमा किये बगैर भट्टे संचालित हैं उन्होने खनन अधिकारी को कार्यशैली सुधारने, अनाधिकृत रूप से संचालित भट्टों को बन्द कराने के आदेश दिये। उन्होने 15 दिन में सुधार न होने पर प्रमुख सचिव खनिज को कार्यवाही हेतु पत्र लिखे जाने को कहा। उन्होेने सबसे ज्यादा लाईन लास वाले क्षेत्र की सूचीं अवर अभियन्ता, लाईनमैन के नाम सहित उपलब्ध कराने के निर्देश अधिशासी अभियन्ता विद्युत को दिये। उन्होने विविध देय में भी गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष 20 प्रतिशत की कमी पाये जाने पर सबसे खराब वसूली वाले 03 तहसीलदारों को कारण बताओ नोटिस जारी करने के आदेश दिये।

जिलाधिकारी ने अधिशासी अधिकारियों से कहा कि वह वसूली की प्रगति सुधारें, वसूली में लगे सभी कर्मियों से वेतन के 10 गुना राशि की वसूली सुनिश्चित करायें, निर्धारित लक्ष्य से कम वसूली करने वालों का वेतन किसी भी दशा में आहरित न हो। उन्होने कहा कि यदि 15 जून तक वसूली की प्रगति न सुधरी तो अधिशासी अधिकारियो का वेतन रोका जायेगा। उन्होेने कृषि विपणन में मण्डी सदर की वसूली गत वर्ष की तुलना में 32 प्रतिशत कम पाई जिस पर सचिव मण्डी को स्थिति सुधारने के निर्देश दिये। बैठक में राजस्व अधिकारी राम चन्द्र,अधिशासी अभियन्ता विद्युत ए.के.पाण्डेय,एआईजी स्टाम्प आर.एन.राम ,अधिशासी अधिकारी रामपाल,सीमा तोमर, कल्पना बाजपेयी, रागिनी वर्मा,सीआरए मुनीप सिंह,मनोरंजन कर निरीक्षक इन्द्रजीत आदि उपस्थित रहे।

रिपोर्ट – दीपक शर्मा

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY