अनुपस्थित लोगों का वेतन कटा

0
87

चंदौली : जिले के प्रभारी जिलाधिकारी श्रीकृष्ण त्रिपाठी जिलाधिकारी का चार्ज लेते ही पहले दिन फुलफॉर्म में दिखे और गुरुवार को अधिकारियों की टीम ने 18 विभागों का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान लगभग 100 कर्मचारी और अधिकारी अनुपस्थित मिले। शाम तक आई रिपोर्ट के आधार पर प्रभारी डीएम ने सभी का एक दिन का वेतन रोक दिया, वहीं स्पष्टीकरण मांगा है।

एक तो विधानसभा चुनाव दूसरे चुनाव खत्म होने की खुमारी सरकारी विभागों में ऐसी छाई है कि हर कोई सरकारी दफ्तरों को अपने घर का दफ्तर बनाकर चल रहा है। कब कौन आ रहा है, कब कौन जा रहा है इसका कहीं कोई लेखाजोखा नहीं था।

हो भी कैसे जब विभागाध्यक्ष ही कार्यालय से गोल हैं तो कर्मचारी तो उनसे दो हाथ आगे हैं। अधिकारी व कर्मचारियों के कार्यालयों से लगातार गोल होने की मिल रही शिकायतों को देखते हुए प्रभारी जिलाधिकारी ने बुधवार को ही अधिकारियों की टीम का गठन कराकर गुरुवार की सुबह से दोपहर 12 बजे तक कार्यालयों में निरीक्षण कराया।

उन्होंने 18 विभागों के अधिकारी, कर्मचारियों की उपस्थिति रजिस्टर का सत्यापन कराया। इस दौरान अधिशासी अभियंता ग्रामीण अभियंत्रण विभाग के 17 कर्मचारी कार्यालय से गोल मिले। खाद्य एवं विपणन विभाग के आधा दर्जन कर्मचारी अनुपस्थित मिले वहीं उपस्थिति पंजिका में मार्च महीने का अंकन ही नहीं था।

बीएसए कार्यालय के चार, अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम में दो, पिछड़ा वर्ग कल्याण कार्यालय में एक, अर्थ एवं संख्या विभाग के 11, सहायक निबंधक सहकारिता के दो, जिला प्रोबेशन कार्यालय के 11, समाज कल्याण विभाग के सात, बीडीओ कार्यालय नियामताबाद, चकिया, नौगढ़, चहनियां, शहाबगंज के दो-दो, विकास खंड कार्यालय धानापुर और चंदौली के तीन-तीन, सकलडीहा के पांच, सीडीपीओ कार्यालय सकलडीहा के नौ, एक्सईएन मुगलसराय कार्यालय के आठ, जल निगम मुगलसराय के दो कर्मचारी अनुपस्थित मिले। दोपहर बाद आई रिपोर्ट को देखते हुए उन्होंने सभी का एक दिन का वेतन रोक दिया है।

राजकीय महिला चिकित्सालय का गुरुवार को डिप्टी सीएमओ डा. नीलम ओझा ने औचक निरीक्षण किया। इस दौरान चिकित्सालय में व्याप्त समस्याओं को देखकर उन्होंने कर्मचारियों को जमकर फटकार भी लगाई। वहीं उन्होंने मरीजों से व्यवस्था के बाबत जानकारी भी हासिल की।अपराह्न 11 बजे डिप्टी सीएमओ अचानक चिकित्सालय पहुंची। अचानक डिप्टी सीएमओ को चिकित्सालय में देख चिकित्सकों व कर्मचारियों में हड़कंच मच गया।

रिपोर्ट : मिथिलेश सिंह

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here