सेवा प्रदाता विजय प्रकाश एंड कम्पनी मानदेय से पूर्व लेता है 30% कमीशन, उड़ा रहा राज्य परियोजना निदेशालय की धज्जियां

0
70

वाराणसी (ब्यूरो) – उत्तर प्रदेश के लगभग जिलो में सेवा प्रदाता विजय प्रकाश एंड कम्पनी के माध्यम से लगभग 4 वर्षो से राज्य परियोजना निदेशालय के माध्यम से जौनपुर वा अन्य समस्त जिलो में सहायक लेखाकार के पद पर कार्यालय नगर छेत्र में (URC) में अधतन कार्यरत पर नियुक्त किया गया है |

परन्तु सहायक लेखाकार के पद पर कार्यरत कर्मचारियो द्वारा आरोप लगाते हुए कहा गया है कि सेवा प्रदाता विजय प्रकाश एंड कम्पनी मानदेय भुगतान करने से पहले खाता संख्या 408002011002660 यू.,बी.,आई चेतगज वाराणसी में (पुष्कर केसरवानी) एवं खाता संख्या 408004010000069 (केशव सहाय) के नाम पर प्रति माह 30% अग्रिम भुगतान कराने का दबाव बनाया जाता है | सेवा प्रदाता विजय प्रकाश एंड कम्पनी अग्रिम 30% भुगतान लेने के बाद बियरर चेक तथा एक निजी एकाउंट में प्रति माह 30% कटौती करके पहले खातो में ले लिया जाता है |

तत्पश्चात एकाउंट पेई चेक दिया जाता है | कार्यरत सहायक लेखाकार द्वारा आरोप लगाते हुए ये भी कहा गया है कि सेवा प्रदाता द्वारा कहा गया है कि 30% कमीशन सहायक वित्त एवं लेखाधिकारी (सर्व शिक्षा अभियान) के द्वारा मागा जाता है और अग्रिम भुगतान कराने के बाद ही हमको चेक प्राप्त होता है | जब कि राज्य परियोजना निदेशालय के अनुपालन में सम्पूर्ण मानदेय का भुगतान खाते में देने का निर्देश है | लेकिन राज्य परियोजना निदेशालय के मानक को ताख़ पर रख कर सेवा प्रदाता विजय प्रकाश एंड कम्पनी अग्रिम 30% भुगतान लेने के बाद बियरर चेक तथा एक निजी एकाउंट में पैसा देती है |

जो सहायक लेखाकार सेवा प्रदाता विजय प्रकाश एंड कम्पनी अग्रिम 30% भुगतान नहीं करता उसको 6 माह गुज़र जाने के बाद भी सेवा प्रदाता द्वारा पैसा प्राप्त नहीं हो सका और जिसने सेवा प्रदाता विजय प्रकाश एंड कम्पनी को अग्रिम 30% भुगतान किया है उसका मानदेय दे दिया गया जिसका प्रमाण भी उपलब्ध कराया गया है जिसमे सेवा प्रदाता के द्वारा खाता संख्या 408004010000069 (केशव सहाय) के नाम पर 30% का अग्रिम भुगतान करने की बैंक रिसीविंग भी उपलब्ध करायी गयी है | और जिसने 30% का अग्रिम भुगतान नहीं दिया उसको आज तक मानदेय नहीं प्राप्त हुवा ऐसे कहा जा सकता है कि सेवा प्रदाता विजय प्रकाश एंड कम्पनी पैसो के लिए नियूक्त सहायक लेखाकार को अग्रिम 30% भुगतान ना करने पर मानदेय रोक दिया जाता है ! जिससे साफ़ ज्ञात होता है कि सेवा प्रदाता विजय प्रकाश एंड कम्पनी सहायक लेखाकारो से मानदेय देने के नाम पर 30% अग्रिम भुगतान (कमीशन) लेकर अपराध,भ्रष्टाचार को बढावा देने का काम कर रही है ऐसे सेवा प्रदाता की सेवा को समाप्त कर देना चाहिए तब भ्रष्टाचार को समाप्त किया जा सकता है
|

रिपोर्ट- डॉ. अमित कुमार पाण्डेय
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here