सलमान खान को जेल पहुंचाने के पीछे इन लोगों का है हाथ

0
60

बॉलीवुड के भाईजान को काला हिरण शिकार मामले में आज राजस्थान के जोधपुर कोर्ट नें फैसला सुना दिया है..जिसके चलते सलमान खान को दोषी पाते हुए पांच साल की सजा सुना दी गई है…जबकी सलमान के साथ इस मामले में आरोपी उनके साथी ऐक्ट्रेस सैफ, तब्बू,सोनाली बेंद्रे और नीलम को कोर्ट ने बरी कर दिया है…

1998 में जब सलमान अपनी फिल्म हम साथ साथ है कि शूटिंग के लिए राजस्थान गए थे उस टाइम उन्होंने हिरण का शिकार किया था…सलमान को हिरण का शिकार करते हुए कुछ लोगों ने देख लिया था जिसके बाद उन पर शिकायत दर्ज हुई… तो चलिए आपको बताते हैं वो कौन हैं जिसकी वजह से आज सलमान जेल की सलाखों के पीछे हैं…

राजस्थान के मारवाड़ जिले में रहने वाला विश्नोई समुदाय है..जिसने सलमान खान को सजा दिलाने में एक अहम भूमिका निभाई है। 1485 में गुरु जम्भेश्वर भगवान ने इस समुदाय को बनाया था… यह समुदाय सभी जंगली जीवों को अपने घर परिवार जैसा मानता है…सुनने में तो यह तक आया है कि इस समुदाय के लोग अलग जंगल आदि जगह जाते हैं और वहां उनको हिरण का कोई लावारिस बच्चा दिख जाता है तो वो उसको अपने साथ घर लेकर आ जाता हैं…और उनकी महिलाएं भी उन हिरण के बच्चों का अपने बच्चों की तरह ही पालन-पोषण करती हैं… यहां तक कि महिलाएं अपना दूध तक हिरण के बच्चों को पिलाती हैं….इस समुदाय का पर्यावरण संरक्षण में भी एक बड़ा योगदान है…

इसके साथ ही इनके बारे में एक और बात है जो इनको औरों से अलग बनाती है और वो है कि यह लोग किसी जाति,धर्म को नहीं मानते हैं… इसलिए हिन्दू-मुसलमान दोनों ही जाति के लोग इनको स्वीकार करते हैं।प्रकृति को लेकर इस गांव में बहुत अधिक प्यार है….

इस समुदाय को लेकर के एक और बात है जो इस समुदाय को औरों से अलग और विशेष बनाती है…बताया जाता है साल 1736 में जोधपुर जिले के खेजड़ली गांव में राज दरबार के लोग इस गांव के पेड़ों को काटने पहुंचे थे, लेकिन इस समुदाय के लोग पेड़ों से चिपक गए और विरोध करने लगे। इस समाज में उन 300 से ज्यादा लोगों को शहीद का दर्जा दिया गया है। इस आंदोलन की नायक रहीं अमृता देवी जिनके नाम पर आज भी राज्य सरकार कई पुरस्कार देती है।

Advertisements

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here