समस्याओं को लेकर वकीलों ने एसडीएम का किया घेराव

लालगंज/प्रतापगढ़ (ब्यूरो)- तहसील बार एशोसिएशन के अध्यक्ष रहे धनंजय मिश्र हत्याकांड में पुलिस की धीमी जांच गति को लेकर वकील गुरूवार को आक्रोशित हो उठे। वकीलों ने एसडीएम के तहसील मुख्यालय पहुंचते ही प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। और चैंबर में मौजूद एसडीएम अभय पांडेय का घेराव कर बैठे। अधिवक्ताओं का गुस्सा तहसील मुख्यालय पर पेयजल टंकी की खराबी को लेकर इस बात पर भी भड़क उठा कि कार्यदाई संस्था को पन्द्रह लाख रूपए शासन से मिल भी चुका है, फिर भी टंकी ठीक नही कराई जा रही है।

क्षेत्रीय विधायक आराधना मिश्रा मोना के प्रयास से शासन ने माॅडल तहसील के मद में बयालिस लाख रूपए भी अवमुक्त कर रखा है। इसके बावजूद कार्यदाई संस्था धनराशि को सिर्फ खपाने के लिए अन्य अनावश्यक मदों में रूपए का अपव्यय कर रही है। इधर बारिश के चलते एसडीएम कोर्ट व तहसीलदार कोर्ट तक भी आने जाने के रास्ते में जलभराव हो उठा है। फिर भी कार्यदाई संस्था जलभराव की समस्या का समाधान नही कर रही है।

वकीलों ने एसडीएम से यह भी शिकायत दर्ज कराई कि ब्लाक मुख्यालयों पर मृत्यु प्रमाण पत्र जारी होने में भी ब्लाक कर्मी रिश्वत वसूल रहे हैं। वकीलों में सबसे ज्यादा गुस्सा इस बात का दिखा कि जिलाधिकारी के आदेश और कई बार सीआरओ के तहसील मुख्यालय पर वकीलों को दिए गए आश्वासन के बावजूद सांगीपुर में किराये के भवन में संचालित चकबंदी कार्यालय को विभागीय अधिकारी तहसील मुख्यालय स्थानांत्रित नही कर रहे हैं। चकबंदी विभाग पर वकीलां ने काश्तकारों से वहां जमकर धनउगाही के भी आरोप मढ़े।

इस पर एसडीएम अभय पांडेय ने वकीलों को उनके द्वारा उठाई गई मांगों के सप्ताह भर मंे समाधान का भरोसा दिलाया। हालाकि वकील एसडीएम के समझाने बुझाने पर किसी तरह शांत तो हो सके पर समस्याओं के निराकरण न होने पर सप्ताह भर बाद आंदोलन की भी चेतावनी दी है। इस मौके पर संयुक्त अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष देवी प्रसाद मिश्र, उपाध्यक्ष सुरेन्द्र सिंह, महामंत्री संदीप सिंह, पूर्व अध्यक्ष ज्ञानप्रकाश शुक्ल, हरिशंकर द्विवेदी, मनोज सिंह, टीपी यादव, शिवाकान्त उपाध्याय, शैलेन्द्र मिश्र, अनूप सिंह अंतिम, शिवाकांत शुक्ल, अमरनाथ यादव, राजेश तिवारी, विभाकर शुक्ल, शैलेन्द्र शुक्ल, रामकिंकर शुक्ल, विनोद शुक्ल, विपिन शुक्ल, शिवनारायण शुक्ल, राजेश पाल, दीपेन्द्र तिवारी, विनोद मिश्र, दिनेश सिंह, वीरेन्द्र सिंह, अनूप पांडेय आदि अधिवक्ता रहे। वकीलों के हंगामा करने से करीब तीन घंटे तक तहसील मुख्यालय पर कामकाज बाधित दिखा। वहीं अदालतों समेत कार्यालयों में अफरा तफरी का माहौल देखा गया।

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY