भक्ति व श्रद्धा का संगम बना सावन का दूसरा सोमवार, बम-बम भोले से गूंजे शिवालय

0
146

कुरावली/मैनपुरी (ब्यूरो)- श्रद्धा व भक्ति का संगम सावन माह के दूसरे सोमवार को शिव मंदिरों में देखने को मिला। प्रातः काल से ही मंदिरों में भक्तों का तांता लगना शुरू हो गया। भगवान भोले नाथ को प्रसन्न करने के लिए कोई शिवलिंग पर दूध चढ़ा रहा था तो कोई बेल पत्र चढ़ाकर सुख शांति की कामना कर रहा था। भक्त आरती धूप करने के बाद भगवान शिव की सावन माह के सोमवार की व्रत कथा कर भगवान की कृपा प्राप्त कर रहा थे। फूल, हार, बेल पत्र, भांग, धतूरा, फल इत्यादि की दुकानों पर भक्त खरीदारी कर रहे थे। मंदिरों में श्रद्धालु प्रातः काल से भोलेनाथ बाबा के दर्शन के लिए आने लगे थे। नगर के महाराज जी बाबा मंदिर, झारखंडेश्वर मन्दिर, गायत्री शक्ति पीठ मन्दिर, त्यागी बाबा मंदिर, मोहल्ला बैदनटोला मंदिर आदि शिव मंदिरों पर भक्तों की भारी भीड़ थी ।

सावन सोमवार के महत्व के बारे में पं. नन्द किशोर मिश्र ने बताया कि इस महीने में शिव की कृपा के रूप में दैवीय ऊर्जा बरसती है। इसलिए श्रावण यसावनद्ध मास में शुभ संकल्पों के जरिये जनमानस शिव की कृपा का पात्र बनने की कोशिश करता है। उन्होंने कहा शुभ संकल्पों से स्वयं को सराबोर करने के लिए श्रावण सोमवार का व्रत किया जाता है| श्रावणी सोमवारों को पूरे संपूर्ण शिव परिवार की पूजा की जाती है। सोमवार व्रत में शिवलिंग के जलाभिषेक का विशेष महत्व है। पं. मिश्र ने कहा जहां अन्य देवों को प्रसन्न करने के लिए कठोर नियम, संयम की आवश्यकता होती है, वहीं भोलेनाथ के बारे में मान्यता है कि वह एक लोटे जल और बेलपत्र और धतूरे से ही प्रसन्न होकर भक्त की सारी मनोकामनाएं पूरी कर देते हैं। ऐसी मान्यता है कि श्रावण महीने में श्रावण सोमवारों के दिन व्रत करने से पूरे साल भर के सोमवार व्रत का पुण्य मिलता है।

रिपोर्ट- दीपक शर्मा 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here