स्वच्छ भारत मिशन की बाट जोहता जरमुंडी प्रखंड का कन्हैयापुर

0
112

झारखण्ड– एक और जहां समस्त भारत में स्वच्छ भारत अभियान का डंका बज रहा है वही जरमुंडी प्रखंड अंतर्गत चमरा बहियार पंचायत के कन्हैयापुर गांव में इस महत्वाकांक्षी अभियान की आवाज किसी भी दिशा में नहीं सुनाई पड़ रही है। शौचालय विहीन इस गांव की आवाज प्रखंड तक पहुंच ही नहीं पाती है, जबकि मोदी राज में घर-घर शौचालय हो इसके लिए करोड़ों का बजट प्रस्तावित है। इतना ही नहीं इसे पूरे देश में राज्य सरकार के सहयोग से घर घर में पहुंचाने का कार्य तीव्र गति से चल रहा है लेकिन जरमुंडी प्रखंड का यह गांव शौचालय विहीन गांव का तमगा लिए हुए है। शौचालय की सुविधा नहीं होने से लोगों को खुले में शौच के लिए जाना पड़ता है।

खुले में शौच की समस्या का सर्वाधिक प्रभाव महिलाओं पर पड़ता है| एक प्रकार से यह महिलाओं के लिए अपमान जैसा है। नव विवाहिता के लिए ऐसी स्थिति तो जिंदा मरने के समान है। इस संबंध में गांव की महिलाओं की टिप्पणी व्यवस्था को झकझोर देने वाली है। यहां बता दे कि स्वच्छ भारत मिशन की कामयाबी के संबंध में हमारे अधिकारी वर्ग तमाम तरह की घोषनाएं कर सुर्खी में बने रहते हैं और योजनाओं को हाशिए पर डाल देते हैं। तो ऐसे में कन्हैया पुर जैसे गांव में स्वच्छ भारत मिशन सपना बनकर रह जाता है।

 रिपोर्ट- धनञ्जय कुमार सिंह
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY