विम्बलडन 2015- भारत की टेनिस सनसनी सानिया मिर्जा और टेनिस चैम्पियन लिएंडर फाइनल में

0
223
sania mirja and liyender pes (photo credit-sania mirja fb page)
सानिया मिर्जा और लिएंडर पेस की फ़ाइल फोटो (photo credit-sania mirja fb page)

भारतीय स्टार सानिया और स्विस तारिका हिंगिस ने महिला युगल के सेमीफाइनल में राकेल कोप्स जोन्स और अबीगेल स्पीयर्स की पांचवीं वरीयता प्राप्त अमेरिकी जोड़ी को केवल 56 मिनट में 6-1, 6-2 से करारी शिकस्त दी। सानिया के पास इस तरह से पहली बार महिला युगल ग्रैंडस्लैम खिताब जीतने का मौका है। वह विंबलडन के फाइनल में भी पहली बार पहुंची हैं। इससे पहले वह 2011 में महिला युगल के सेमीफाइनल में हार गयी थी।

इसके बाद पेस और हिंगिस की सातवीं वरीय जोड़ी भी माइक ब्रायन और बेथानी माटेक सैंड्स की अमेरिका की शीर्ष वरीय जोड़ी को हराकर उलटफेर करते हुए मिश्रित युगल के फाइनल में पहुंचने में सफल रही। पेस और हिंगिस ने सीधे सेटों में एक घंटे और 12 मिनट में 6-3, 6-4 से जीत दर्ज की।

पेस और हिंगिस को फाइनल में आस्ट्रिया के एलेक्जेंडर पेया और हंगरी की टिमिया बाबोस की पांचवीं वरीय जोड़ी तथा स्वीडन के रोबर्ट लिंडस्टेड और स्पेन की अनाबेल मेडिना गैरिग्वेज की जोड़ी के बीच होने वाले सेमीफाइनल के विजेता से भिड़ना होगा। पेस और हिंगिस ने पहले सेट में दो बार जबकि दूसरे सेट में एक बार विरोधी जोड़ी की सर्विस तोड़ी। उन्होंने पहले सेट में एक बार अपनी सर्विस भी गंवाई। इस सातवीं वरीय जोड़ी ने मैच के दौरान पांच ब्रेक प्वाइंट बचाए जबकि खुद छह में से तीन ब्रेक प्वाइंट को भुनाया।

पेस की नजरें अब अपने 16वें ग्रैंडस्लैम खिताब पर टिकी हैं। उन्होंने इसी साल हिंगिस के साथ मिलकर आस्ट्रेलिया ओपन का खिताब भी जीता है। यह भारतीय स्टार अब तक ग्रैंडस्लैम में आठ पुरूष युगल और सात मिश्रित युगल खिताब जीता चुका है। सानिया ने अपने करियर में केवल दूसरी बार महिला युगल ग्रैंडस्लैम फाइनल में जगह बनायी।

इससे पहले वह 2011 में अपनी रूसी जोड़ीदार इलेना वेसनिना के साथ फ्रेंच ओपन में उप विजेता रही थी। उन्हें आंद्रिया हाल्वाचकोवा और लूसी हाड्रेका की चेक गणराज्य की जोड़ी ने हरा दिया था। सानिया ने तीन बार मिश्रित युगल के खिताब जीते हैं। उन्होंने हमवतन महेश भूपति के साथ मिलकर 2009 में आस्ट्रेलियाई ओपन और 2012 में फ्रेंच ओपन तथा पिछले साल ब्राजील के ब्रूनो सोरेस के साथ यूएस ओपन का खिताब जीता था। सानिया और हिंगिस मैच में शुरू से ही हावी हो गयी और उन्होंने दूसरे गेम में ही अमेरिकी जोड़ी की सर्विस तोड़ दी। इस सेट में उन्हें चार बार ब्रेक प्वाइंट का मौका मिला जिसमें से दो बार वे सफल रही।

खिताबी मुकाबले में सानिया और हिंगिस का सामना एकटेरिना मकरोवा और इलेना वेसनिना की दूसरी वरीय रूसी जोड़ी से होगा जिन्होंने एक अन्य सेमीफाइनल में हंगरी की टिमिया बाबोस और फ्रांस की कैटरीना मालदेनोविच की चौथी वरीयता प्राप्त जोड़ी को 6-3, 4-6, 6-4 से पराजित किया। इस बीच भारत के सुमित नागल वियतनाम के अपने जोड़ीदार नाम होंग ली के साथ मिलकर लड़कों के युगल के सेमीफाइनल में पहुंच गये हैं। इस आठवीं वरीय जोड़ी ने युसुके ताकाहाशी और जुम्पी यामासाकी की जापानी जोड़ी को 53 मिनट तक चले मैच में 6-2, 6-3 से हराया।

डाटा इनपुट –भाषा पी.टी.आई.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Cabal slot extender skill nineteen + eight =