सरकार की मंसा पर पानी फेर रहें हैं कर्मचारी

0
45

कोंछाबाजार/फैजाबाद(ब्यूरो)- सरकार तो बदल गई लेकिन कर्मचारियों के काम करने के तरीक़े में कोई बदलाव नहीं आया। उपजिलाधिकारी के आदेश को भी मानने को लेखपाल तैयार नहीं है। सत्ताधारी भाजपा के लाख प्रयास के बाद भी रिश्वतखोरी दबंगई में कोई कमी नहीं आयी हैं। प्रदेश में भले ही सत्ता बदली हो सरकार के निजाम बदल गए हो किंतु कर्मचारियों के काम करने का रवैया नहीं बदला।

आलम यह है कि कर्मचारी pcs रैंक के अधिकारियों के आदेशों को भी ठेंगा दिखाने से बाज नहीं आ रहे हैं। जिसका ज्वलंत उदाहरण बीकापुर तहसील क्षेत्र के ग्राम पंचायत सहजपुर में देखने को मिला। जहां एसडीएम बीकापुर के आदेश का हल्का लेखपाल रामदीन द्वारा माखौल उड़ाया जा रहा है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार उक्त गांव निवासी दलित रामसेवक पुत्र द्वारिका प्रसाद तथा दर्जनों गांव वासियों द्वारा सहज पुर मठिया दो गांवों को जोड़ने वाले चक मार्ग संख्या 326 की एसडीएम बीकापुर को प्रार्थना पत्र देकर पैमाइश की मांग की गई थी । जिस पर एसडीएम बीकापुर द्वारा कानूनगो व लेखपाल को आवश्यकता पड़ने पर पुलिस बल के साथ चकमार्ग की पैमाइश करने का निर्देश दिया किंतु लगभग दो महीने बीत जाने के बाद भी दबंग लेखपाल द्वारा एसडीएम के आदेश की धज्जियां उड़ाते हुऐ अभी तक चकमार्ग की पैमाइश नहीं की गई।

मामले में कार्यवाही ना होते देख ग्राम वासियों ने इस पूरे मामले की शिकायत जिलाधिकारी फैजाबाद तथा मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश को प्रार्थना पत्र भेज कर जल्द कार्यवाही की मांग की है। दिये गए प्रार्थना पत्र मैं शिकायतकर्ता रामसेवक विजय बहादुर सिंह लल्लन पासवान छेदी लाल जयलाल सोनपति चित्रलेखा सहित दर्जनों ग्रामवासियों ने दिये गये प्रार्थना पत्र में आरोप लगाया है कि लेखपाल विपक्षी का रिश्तेदार है इसलिए चकमार्ग की पैमाइश करने में हीलाहवाली की जा रही है।

इस संबंध में हल्का लेखपाल रामदीन से जानकारी लेने पर लेखपाल द्वारा मामले की जानकारी देने के बजाय फोन काट दिया गया। पुनः कई बार प्रयास करने पर दोबारा फोन नहीं उठाया। मामले के संबंध में  कानूनगो बीकापुर ने बताया कि हल्का लेखपाल के पास कई ग्राम सभाओं का अतिरिक्त प्रभार होने के कारण चकमार्ग की पैमाइश में विलंब हुआ है। फिलहाल एक सप्ताह के अंदर ही चकमार्ग की पैमाइश हो जाएगी।

रिपोर्ट-यादवेन्द्र मोहन

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY