सरकार को कोसते रहे वाहन चालक व स्वामी

0
91

रायबरेली(ब्यूरो)- अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस पर जहां सरकार द्वारा इसे सफल बनाने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगया गया, वहीं भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओ द्वारा राष्ट्रीय आवाहन पर सड़क पर लेट कर विरोध मनाया गया। किसान यूनियन के कार्यकताओं द्वारा प्रदेशउपाध्यक्ष श्यामलाल विश्वकर्मा की अगुवाई मे पहले विकास खण्ड परिषर में एक जन सभा का आयोजन किया गया।

श्री विश्वकर्मा ने कहा कि देश का किसान कर्ज के बोझ से दबकर आत्महत्याऐं कर रहा है। केन्द्र सरकार की नीतियों के चलते बेरोजगारी बढ गई है। किसान के लिए खाद बीज लेना भी दूभर हो रहा है। और सरकार रोटी न देकर योग करा रही है। सुबह से शाम तक फावड़ा चलाने वाले किसान को रोटी की जरूरत होती है। न कि योग की। यह सारी नौटंकी पूंजीपतियांे की है। उन्होंने कहा कि किसानों की आर्थिक स्थिति में सुधार का ढोंग रचने वाली सरकार डाक्टर स्वामी नाथन आयोग की रिपोर्ट लागू नही कर रही है। सरकार द्वारा लघु व सीमान्त किसानों के कर्ज माफी की घोषण तो जरूर की गई परन्तु किसी भी किसान के खाते में एक भी पैसा नही गया।

उन्होंने कहा कि भोपाल में पुलिस की गोली से मरने वालें किसानों के परिवारों को एक एक करोड का मुआवजा दिया जाये उत्पादित फसल फल और दूध का समर्थन मूल्य सरकार द्वारा घोषित किया जाये किसानों के द्वारा उत्पादित की गई फसलो को जी0एस0टी0 से मुक्त किया जाये। सभी कृषि उत्पादों की आयात पर प्रतिबन्ध लगाया जाये। हरियाणा और पंजाब की तरह किसानों को मु्फ्त पानी व बिजली दी जाये जनसभा के बाद उपस्थित किसानों के द्वारा जुलूस की सक्ल मे जाकर मुख्य चैराहे पर लेट कर प्रदर्शन किया गया। इस अवसर पर दिलीप चैधरी, राहुल सिंह, आकाश सिंह, अवधेश चैधरी, रामआसरे आदि मौजूद रहे।

रिपोर्ट- राजेश यादव 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY