सरकारी गाड़ी लेकर फ्री में ताड़ी पीने पहुंचे पशुपालन विभाग के कर्मी

0
123

हरदोई (ब्यूरो)- पशुपालन विभाग को हाईटेक करने के लिए शासन द्वारा भले ही करोड़ों रूपये खर्च किये जा रहे हों, पर विभाग के लापरवाह कर्मचारी अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं। पशुपालन विभाग के कर्मचारी ही नहीं फार्मासिस्ट और डॉक्टर भी अब नशेड़ी हो चुके हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में मवेशियों के इलाज को सीघ्र पहुँचने के लिए पशुपालन विभाग को शासन द्वारा प्रदान की गयीं सरकारी गाड़ियों का किस तरहं दुरूपयोग किया जा रहा है, इसकी बानगी गुरुवार को देखने को मिली।

दोपहर करीब 01 बजे पशुपालन विभाग हरदोई की गाड़ी संख्या यूपी 30-जी- 0239 पर सवार फार्मासिस्ट आशुतोष कुमार, गाड़ी चालक व एक अन्य कर्मचारी के साथ ताड़ी पीने के लिए जिला मुख्यालय से 18 किमी दूर लखनऊ रोड स्थित कराही गांव पहुंचे। जहाँ पर सरकारी गाड़ी का रौब दिखाकर तीनों कर्मियों ने गाड़ी में ही ताड़ी मंगाकर पी, जब ताड़ी लगाने वाले व्यक्ति ने पैसे मांगे तो नशे में टुन्न कर्मियों ने रुतबा दिखाया और गाली गलौज करते हुए ताड़ी बंद करा देने की धमकी दी और बिना पैसे दिए ही तीनों कर्मी गाड़ी लेकर निकल गए।

ऐसे में बड़ा सवाल ये उठता है कि सरकारी धन और संपत्ति का दुरूपयोग करने वाले ऐसे कर्मियों के कृत्यों पर लगाम क्यों नहीं लग रही? सवाल ये भी है कि सरकारी गाड़ी लेकर पशुपालन विभाग के कर्मचारी शासन प्रशासन की छवि क्यों धूमिल कर रहे हैं। ड्यूटी के वक्त नशा करने वाले कर्मियों पर कार्यवाही क्यों नहीं?

रिपोर्ट- रवि मिश्र 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY