बाबा सारंग के दरबार से शिवमय हुआ सारनाथ

0
34

वाराणसी/सारनाथ (ब्यूरो) बाबा के दरबार मे भक्ति जागरण में बही सुरों की गंगा तो भक्त अपने को रोक नही पाये जमके ठुमके लगाये। मौका था बाबा सारंगनाथ महादेव जी के हरियाली व हिमश्रृंगार का। जहाँ पूरे मंदिर प्रांगण को फूल मालाओं व कामिनी की पत्तीयों के साथ-साथ विधिवत रंग-बिरंगे झालरों से सजाया गया था। वही बाबा सारंगनाथ महादेव जी के मंदिर प्रांगण व गर्भगृह को सैकड़ो रंग-बिरंगे बर्फ की सिल्लियों से पहाड़ नुमा सजाया गया था मानो बाबा हिमालय की चोटी पे बाबा विराजमान हो।

मंदिर प्रांगण के प्रमुख द्वार पर बर्फ से बने अरघे में विशालकाय शिवलिंग जहाँ लोगों के आकर्षण का केंद्र रहा वही समीप में नंदी, गणेश, कार्तिक, त्रिशूल, डमरू , शेषनाग के दर्शन कर भक्त अपने को न रोक सके सेल्फी लेने में लग गए। पूरा सारनाथ शिवमय हो गया, लोग कतारबद्ध होकर बाबा के आलौकिक श्रृंगार के दर्शन को उमड़ पड़े। भक्ति जागरण की शुरुआत प्रख्यात भजन गायक सुरेंद्र मिश्र ने गणेश वन्दना से किया।

जैसे ही” बम-बम बोल रहा है काशी “सुनाया तो लोग अपने पांव के थिरकन को न रोक पाये पुरुष महिलाओ के साथ बच्चो ने भी जमकर ठुमके लगाये वही बलिया की इंदुलता ने “तेरे दर पे बाबा के दीवाने आये है”तो महिलाओ ने जमकर नृत्य किया जब पूजा मिश्रा ने “एक बार सारंग बाबा चले आओ” सुनाया तो पूरा सारनाथ शिवमय हो गया।कार्यक्रम देर रात तक चलता रहा और भक्तो में प्रसाद वितरण होता रहा।

उक्त कार्यक्रम के पूर्ववत बाबा सारंगनाथ व शोभनाथ महादेव जी 11 कर्मकांडी ब्राम्हणो द्वारा 51 लीटर दूध से महारुद्राभिषेक किया गया। इसमें प्रमुख रूप से अजय मिश्र, विजय रॉय, प्रदीप पांडेय, संतोष पांडेय, ओमप्रकाश मुन्ना, राजेन्द्र प्रसाद सहित सैकड़ों लोग शामिल रहे।

रिपोर्ट – रवींद्रनाथ सिंह

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY