फार्मासिस्ट के भरोसे चल रहा सतहरिया सामुदायिक स्वास्थ केन्द्र

0
27

मुगराबादशाहपुर/जौनपुर (ब्यूरो) शासन से लेकर जिलाधिकारी तक स्वास्थ केन्द्रो की बदहाल चिकित्सा व्यवस्था में सुधार लगाने के अथक प्रयास के बावजूद स्थिति में सुधार नहीं हो पा रहा है |आलम यह है की मुगरा पीएचसी में मरीजों को जहां बाहर से दवा खरीदने व जांच कराने की पर्ची थमा दी जती है वहीं सतहरिया सामुदायिक स्वास्थ केन्द्र का हाल तो और भी बेहाल है | मरीजों को बैहतर चिकित्सा व्यवस्था उपलब्ध कराने के उद्देश्य को लेकर खोला गया यह सामुदायिक अपने उद्देश्य से ही भटक गया है | क्षेत्र व सीडा का महत्वपूर्ण यह स्वास्थ केन्द्र इन दिनों फारमासिस्ट के सहारे चल रहा है | इस स्वास्थ केन्द्र पर नियुक्त चिकित्साधीक्षक इलाहाबाद में तो चितित्साधिकारी कमरों में बैठ कर प्राइवेट प्रैक्टिस करने में मशगूल रहते हैं |

दुर्घटना अथवा आपात काल में भी चिकित्साधिकारी को कमरे से स्वास्थ केन्द्र पर पहुंचने में घंटो लग जाता है |रविवार को हालत तो और भी दयनीय हो जाती है | सूत्रों की माने तो सतहरिया सामुदायिक स्वास्थ केन्द्र पर मरीज को पहले फार्मासिस्ट से ही उपचार कराना पड़ता है यदि रोग उसकी समझ में नहीं आया तभी चिकित्सक महोदय उसके बुलावे पर घंटो बाद रूम से निकल पाते है यदम भूल से मरीज या उसका तामीरदार पहुंच गया तो बहुत खोजबीन करने पर डा. संजय राय मिल पाते है | जिनकी दो-चार बाते सुनना मरीज की मजबूरी बन जाती है | सूत्रों का दावा है कि चिकित्साधीक्षक कभी भी समय से न तो स्वास्थ केन्द्र पर पहुंचते है और न ही रात में रूकते है |उनकी आपातकाल की ड्यूटी भी कोई अन्य चिकित्सक अथवा फार्मिशिष्ट.ही करता है | मुख्य चिकित्साधिकारी भी सब कुछ जानकर अनजान बने है अथवा उन पर ही चिकित्साधीक्षक भारी पड़ रहे है |पूरी तरह रहस्यमय बना है |फिलहाल स्वास्थ केन्द्र की बदहाल ब्यवस्था मरीजो की परेशानी की सबब बन गयी है | जिससे निजात क मिलेगी यह तो आने वाला समय ही बतायेगा |क्षेत्रीय प्रबुद्ध जनो ने जिलाधिकारी का ध्यान आकृष्ट कर दोनो स्वास्थ केन्द्रो की बदहाल हो चुकि ब्यवस्था मे सुधार लाने की मांग की है |

रिपोर्ट – अमित कुमार पाण्डेय

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY