कांग्रेस के बागी विधायकों की अर्जी उत्तराखंड हाईकोर्ट ने की ख़ारिज, विधायकों ने दी सुप्रीमकोर्ट में अपील

0
347

देहरादून- उत्तराखंड हाईकोर्ट ने आज कांग्रेस के बागी 9 उन विधायकों की अर्जी को ख़ारिज कर दिया है जिन्हें उत्तराखंड विधानसभा के स्पीकर के द्वारा अयोग्य करार दिया गया था | दरअसल आपको बता दें कि कांग्रेस के इन्ही 9 विधायकों की वजह से ही उत्तराखंड में राजनैतिक तापमान बढ़ा हुआ था | इन्ही 9 विधायकों ने कांग्रेस से अपना समर्थन वापस ले लिया था जिसके बाद उत्तराखंड में राजनैतिक गर्मी अपने चरम पर पहुँच गयी और देखते ही देखते उत्तराखंड के मुख्यमंत्री को उनकी कुर्सी से हाथ धोना पड़ गया था | उत्तराखंड विधानसभा स्पीकर ने इन सभी 9 विधायकों को अयोग्य करार देते हुए इनकी सदस्यता को रद्द करने का फैसला लिया था | जिसके बाद इन सभी 9 विधायकों ने मिलकर हाईकोर्ट ऑफ़ उत्तराखंड में एक याचिका दाखिल की थी | आज इस मामले पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने अपना फैसला उत्तराखंड विधानसभा स्पीकर के ही पक्ष में रखते हुए इन सभी 9 बागी विधायकों को फ्लोर टेस्ट से बाहर रहने का हुक्म दिया है |

विधायकों ने दी सुप्रीमकोर्ट में अर्जी –
सभी 9 बागी विधायकों ने जैसे ही हाईकोर्ट का फैसला देखा उसके तुरंत बाद ही उन्होंने सीधे सुप्रीमकोर्ट ऑफ़ इंडिया का रुख कर लिया था | सुप्रीमकोर्ट के चीफ जस्टिस ने मामले पर सुनवाई करने के लिए हामी भर दी है और साथ ही उन्होंने इस मामले को जस्टिस दीपक मिश्रा की बेंच को सौंप दिया है |

बता दें कि दीपक मिश्रा की ही बेंच इस मामले पर पहले सुनवाई करती आ रही है | इसीलिए चीफ जस्टिस ने इस मामले को जस्टिस दीपक मिश्रा की बेंच को सौंप दिया है | बताया जा रहा है कि इन बागी विधायकों की अर्जी पर आज दोपहर तक़रीबन 12.30 से लेकर 2.30 के बीच जस्टिस दीपक मिश्रा सुनवाई कर सकते है | अगर जस्टिस मिश्रा की बेंच विधायकों को 10 मई को होने वाले शक्तिपरिक्षण का हिस्सा बनने की इज़ाज़त देती है तो यह लगभग निश्चित हो जायेगा कि राज्य में बीजेपी की ही सरकार बनेगी लेकिन अगर जस्टिस दीपक मिश्रा की बेंच ने इस मामले हाईकोर्ट की तरह विधानसभा स्पीकर के ही फैसले को मान्यता दी तो बीजेपी के सरकार बनाने का सपना टूट भी सकता है |

कल होना है फ्लोर टेस्ट –
बता दें कि यानि 10 मई को राज्य में माननीय सुप्रीमकोर्ट के देखरेख में विधानसभा के भीतर शक्तिपरीक्षण होना है | सुप्रीमकोर्ट ने आदेश दिया था कि इस शक्तिपरिक्षण को उनके सामने किया जाना चाहिए और न केवल इतना ही इसकी पूरी वीडियो ग्राफी भी होनी चाहिए | उत्तराखंड में हरीश रावत को बहुमत के लिए 31 विधायकों के समर्थन की जरूरत है | कांग्रेस के पास 27, भाजपा के पास 28 और अन्य विधायकों की संख्या 6 है, जो रावत के समर्थन में कल वोट कर सकते हैं | अब यह देखना कल दिलचस्प होगा कि सत्ता में आता कौन है |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here