सोशल मीडिया पर कैसे वायरल हुआ विज्ञान का प्रश्नपत्र

0
90


भदोही(ब्यूरो)-
हाईस्कूल के विज्ञान विषय का प्रश्नपत्र सोशल मीडिया यानी वाट्सप पर कैसे वायरल हुआ। इसका जबाब जिला प्रशासन के पास नहीं है। उल्टे अधिकारी अपनी जिम्मेदारी से बचने के लिए बचकाना बयान दे रहे हैं कि, परीक्षा चालू होने के बाद पर्चा लीक हो सकता है। इस मामले में सबसे गैर जिम्मेदाराना बयान जिला विद्यालय निरीक्षक भदोही का आया है। उन्होंने कहा है कि इसे लीक नहीं माना जा सकता है। लेकिन एक बात सच है कि जिले में खुले आम नकल हो रही है। परीक्षा केंद्रों पर अंदर इमला बोलकर नकल कराया जा रहा है। हलांकि यह साबित कर  पाना बेहद मुश्किल है लेकिन बात यह भी आयी है कि परीक्षा केंद्रों की तरफ से परीक्षार्थियों से वसूली भी की गयी है और उसी के बल पर नकल की छूट मिल रही है।

 

सोशल मीडिया पर के जरिए वायरल हुआ विज्ञान का प्रश्नपत्र परीक्षा की सुचिता और अफसरों की मानसिकता को साफ करता है। शिक्षा विभाग नकल रोकने को कितना गंभीर है इसका पता इसी से लगाया जा सकता है। जब परीक्षा केंद्र में मोबाइल रखने का प्रतिबंध है उस स्थिति में परीक्षा केंद्र में मोबाइल कैसे गया। परीक्षा के दौरान गेट और कमरे में कालेजों की तरफ से चेकिंग करायी जाती है। फिर मोबाल कैसे गया। अगर गया भी तो उसके जरिए पेपर लीक कैसे हुआ। प्रदेश में निजाम बदलने के बाद माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की परीक्षाओं में फिलहाल सुचिता का असर नहीं दिख रहा है। खुले आम नकल हो रही है। इस नकल उत्सव में शिक्षा विभाग, स्कूल एवं कालेज प्रबंधन, अभिभावक, शिक्षक सभी होम करते दिखते हैं। परीक्षा केंद्र के बाहर भारी भरकम भीड़ देखी जा सकती है। हलांकि ऐसा हर परीक्षा केंद्रों पर नहीं दिख रहा है। लेकिन बहुताएत में यही स्थिति है। लेकिन जहां नजारा बिल्कुल शांत दिख रहा है वहां अंदर जमर नकल की जा रही है।

जिला विद्यालय निरीक्षक संतोष मिश्र ने इस मसले पर बेहद गैर जिम्मेदाराना बयान दिया। उन्होंने कहा कि परीक्षा के पूर्व पेपर वायरल हुआ होता तो इसे लीक माना जाता लेकिन पेपर वितरण के बाद वायरल हुआ यह उस परिभाषा में नहीं आता है। यानी उनकी मानें तो इन तीन घंटों के दौरान आप सोशलमीडिया या दूसरे माध्यम से पर्चा वायरल या लीक करा प्रश्नपत्र हल कर सकते हैं। इस तरह के गैर जिम्मेदार अफसर वह भी शिक्षा का, फिर उस स्थिति में परीक्षा की सुचिता कितनी सुरक्षति रहेगी यह अपने आप में सवाल है?

रिपोर्ट- राजमणि पाण्ड़ेय

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY