निजाम के बदलते ही एसडीएम सदर के बदले थे सुर, तोहफे में मिला तबादला

0
104

सुल्तानपुर ब्यूरो : उत्तर प्रदेश के निजाम के राजतिलक के बाद अफ़सरशाह जहाँ आबो हवा के साथ कदम ताल करते दिख रहे हैं, तो वहीं सुल्तानपुर जिले के उपजिलाधिकारी सदर सलिल पटेल ने मीडिया में चली अवैध अतिक्रमण व नजूल की भूमि पर कब्जेदारी को लेकर सख्त रुख अख्तियार किया था और कार्यालय विनीयमित क्षेत्र से विस्तृत रिपोर्ट तलब की थी । मजे कि बात तो यह है कि इसी दरमियान सत्ता का परिवर्तन हो गया और कुछ अधिकारी अपने अधिकारों का प्रयोग करने लगे जिस कडी़ में एसडीएम सदर सलिल पटेल ने सुल्तानपुर जिला चिकित्सालय के सामने निर्माणाधीन स्थल पर खुद पुलिस बल के साथ पहुंच कर धवस्तिकरण करा दिया, जिससे भू – माफ़ियाओं और बिल्डर्स में खलबली मच गयी, फिर क्या था शुरु हुआ जोड़-तोड़ का खेल और देर शाम एसडीएम सदर सलिल पटेल को कार्यवाही के तौहफे के स्वरुप में एसडीएम सदर के पद से पदमुक्त करते हुए सिटी मजिस्ट्रेट ( अपर उपजिलाधिकारी ) के पद पर लाकर आसीन कर दिया गया तो वहीं जनपद के अन्य एसडीएम के क्षेत्र का भी परिवर्तन कर मामले को छिपाने का खेल खेला गया |

इससे पूर्व भी एसडीएम सदर रहे दिनेश गुप्ता ने मिट्टी के तेल के कालाबजारियों पर नकेल कस दी थी तब तत्कालीन एसडीएम रहे दिनेश गुप्ता को एसडीएम जयसिंहपुर स्थानांतरित कर दिया गया जहाँ तत्कालीन विधायक के करीबीयों की अवैध खनन में जुडी गाडियों को सीज करना फिर एसडीएम दिनेश को महंगा पडा़ था और वहां से हटा कर दिनेश गुप्ता को सिटी मजिस्ट्रेट का चार्ज दे दिया गया था । अब इस स्थानांतरण को लेकर जिलाधिकारी एस. राजलिंगम की तबादला नीति पर आम जनमानस में चर्चा का विषय बना हुआ है ।

रिपोर्ट – दीपक मिश्र

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here