शंघाई सहयोग संगठन शिखर सम्मलेन में शामिल होगा भारत

0
802

 

SCOजुलाई 9-10 को रूस के उफ़ा शहर में इस 19 वर्षीय पुराने संगठन का 15वां शिखर सम्मलेन का आयोजन किया गया I इस सम्मलेन में इस बात पर निर्णय लिया गया कि अब भारत को इस संगठन का स्थायी सदस्य बनाया जाय I अभी तक भारत इस संगठन में पर्यवेक्षक की भूमिका में था I भारत के ही साथ पाकिस्तान को भी इस संगठन का स्थायी सदस्य बनाया जाएगा I भारत और पाकिस्तान के संगठन में शामिल होते ही संगठन में शामिल देशों की संख्या 8 हो जाएगी I

 

 

ज्ञात होना चाहिए कि इस संगठन के प्रमुख उद्देश्य निम्न हैं –

एक दूसरे देशों के साथ सड़क, रेल, वायु, जल किसी भी मार्ग से जुड़े रहना

आतंकवाद के खिलाफ एक दूसरे का सहयोग करना

उर्जा के क्षेत्र में सहयोग करना

ब्यापार बढाने पर विशेष ध्यान देना

मादक पदार्थों की तश्करी पर रोक लगाना

वर्तमान में इस संगठन में चीन, रूस, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, ताजीकिस्तान और उज्बेकिस्तान शामिल हैं

भारत वर्ष को इस संगठन में पर्यवेक्षक का दर्जा 2005 में दिया गया था वर्ष 2014 में भारत ने इसकी स्थायी सदस्यता के लिए आवेदन किया था

इस संगठन में भारत और पाकिस्तान के अलावा अफगानिस्तान, ईरान और मंगोलिया भी पर्यवेक्षक देश के रूप में शामिल हैं

याद रखने योग्य –

शंघाई सहयोग संगठन (SCO- Shanghai cooperation origination) एक यूरेशियाई राजनीतिक, आर्थिक और सैन्य सहयोग संगठन हैं I यूरेशिया का मतलब हैं यूरोप और एशिया का संयुक्त महाद्वीपीय भू-भाग

इस संगठन की शरुआत संघाई -5 के रूप में 26 अप्रैल 1996 को हुई थी

अभी तक शंघाई सहयोग संगठन मात्र 5 देशों चीन, रूस, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, ताजीकिस्तान का सगठन था I

भारत और पाकिस्तान के मिलने के बाद इसकी संख्या बढ़कर 8 हो जाएगी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here