शराब पीकर स्कूल में फेंकी जाती है बोतलें, 50 मीटर से भी कम दूरी पर स्थित है मधुशाला

0
243

जरमुंडी/झारखण्ड (ब्यूरो)- आप इन वीडियो को देखें, यह कहीं औऱ की नहीं बल्कि झारखंड राज्य के अंतर्गत दुमका जिला के जरमुंडी प्रखंड के हरिपुर बाजार की है जहां पर दारू एक दुकान है जिसके ठीक बगल में लगभग 15 फीट की दूरी पर एक बजरंगबली का मंदिर भी है|

आपको बता दें कि इस मंदिर में क्षेत्र की कई महिलाएं व पुरुष सवेरे से शाम के दरमियान हनुमान जी का पूजा व अर्चना भी करने के लिए आते रहते हैं | आपकी जानकारी के लिए यह भी बता देते है कि इतना ही नहीं इस शराब के ठेके के ठीक सामने बारहवीं तक के लिए स्कूल भी है जो शराब की दुकान से एकदम सामने है |

बताते चले कि शराब की दूकान और विद्यालय के बीच महज एक सड़क का ही फासला है | अब सवाल यह उठता है कि जहाँ एक तरफ देश के प्रधानमंत्री मंदिरों, मश्ज़िदों से दूर मधुशालाओं की बात कर रहे है, एक स्वच्छ इन्वार्मेंट में शिक्षा की बात कर रहे है वहां इस तरह से 50 मीटर के ही भीतर स्कूल मधुशाला और मंदिर तीनों का होना कितना ठीक है यह तो प्रशासन को ही तय करना होगा ?

आस-पास रहने वाले ग्रामीणों और विद्यालय में शिक्षा लेने आने वाले बच्चों का कहना है कि मंदिर और स्कूल के आस-पास शराब की दुकान नहीं होनी चाहिए | स्कूल के कई बच्चों और बच्चियों द्वारा कहा जाता है कि लोग  खुलेआम शराब पीते हुए हैं और जब स्कूल बंद हो जाता है तो दारू की बोतलें हमारे स्कूल के कैंपस में फेंक दी जाती है|

उन्होंने यह भी बताया है कि कई बार तो स्कूल के बरामदे और खुले हुए खिड़की के अंदर भी फेक दी जाती है  क्या ऐसा होना चाहिए ? इन छात्र छात्राओं का यह भी कहना था आखिर इसकी शिकायत किससे किया जाय ? जब पूछा गया ऐसी बातें क्यों बोल रहे हो तो उनका कहना था यह शराब की दुकान, बजरंगबली का मंदिर और यह स्कूल शहर और मेन सड़क के किनारे है ना कि देहात में और इस रास्ते से कम से कम महीने में या फिर 15 दिन कोई न कोई राज्य के मंत्री, विधायक जिला के वरीय पदाधिकारी प्रखंड के पदाधिकारी इस रास्ते से होकर गुजरते हैं क्या उन्हें दिखाई नहीं देता है?

स्कूल में पढने वाले बच्चों की मांग है कि प्रशसन यहाँ से तत्काल इस शराब की दूकान को हटाये इसकी वजह से यहाँ उनकी पढ़ाई में बाधा पहुँचती है |

रिपोर्ट- धनंजय कुमार सिंह 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here