राजस्थान में है शीतला माता के मंदिर में एक ऐसा घड़ा जिसमे अब तक 50 लीटर पानी डाला जा चुका फिर भी न भर सका घड़ा, बड़े से बड़े वैज्ञानिक भी न लगा सकें पता कि आखिर पानी जाता है कहा ?

0
2223

сколько в день нужно съедать миндальных орехов sheetlamataphoto1
देश के राजस्थान प्रदेश के पाली जिले में शीतला माता का एक प्राचीन मंदिर है जिसमें एक उतना ही प्राचीन घड़ा रखा हुआ है जिसकी गहरायी तक़रीबन आधा फिट और चौड़ाई भी लगभग इतनी ही है लेकिन इस घड़े में कितना ही पानी क्यों न डालें यह घड़ा कभी भी भरता नहीं है I तक़रीबन 1000 सालों से या फिर इससे भी अधिक सालों से इस मंदिर में यह घड़ा रखा हुआ है और तभी से साल में 2 बार इस घड़े में श्रधालुओं के द्वारा जल भरा जाता है लेकिन आज तक कभी भी यह घड़ा जल से भर न सका I स्थानीय लोगों की ऐसी मान्यता है कि इस घड़े में जितना भी पानी डाला जाता है उसे एक राक्षस पी जाता है I सबसे बड़ी बात यह है कि कभी न हारने वाला विज्ञान भी इस रहस्य के सामने बौना दिखाई पड़ता है क्योंकि आज तक कोई भी वैज्ञानिक इसका पता लगाने में कामयाब नहीं हुआ है I

история древнего мира ванина данилова

http://rudarski-maraton.si/owner/kran-sharovoy-latunniy-du-20-chertezh.html кран шаровой латунный ду 20 чертеж साल में दो बार भरा जाता है जल –

http://simpliproperty.com/owner/stih-pro-losya-s-dnem-rozhdeniya.html стих про лося с днем рождения

с чем качать спину в один день स्थानीय नागरिकों की माने तो तक़रीबन 1000 सालों से लगातार यह प्रथा चल रही है कि साल में 2 बार इस घड़े के ऊपर रखा हुआ पत्थर हटाया जाता है और फिर गाँव की महिलायें इस घड़े में हजारों लीटर पानी भरती है लेकिन यह घड़ा कभी भी भरता नहीं है I मान्यता के अनुसार घड़े के ऊपर से पत्थर पहली बार शीतला सप्तमी पर और दूसरी बार ज्येष्ठ माह की पूनम पर हटाया जाता है I और जब अंत तक घड़ा जल से नहीं भरता है तो अंत में पुजारी मान्यता के अनुसार शीतला माता के चरणों में दूध का भोग लगाते है और फिर थोड़े से दूध में ही घड़ा पूरी तरह से भर जाता है फिर इसे बंद कर दिया जाता है I

оригами из бумаги птицы схемы

ютуб не удалось загрузить видео

из рук в руки город витебск газета

http://iborme.com/library/novosti-dlya-pereselentsev-iz-ato-pensii.html новости для переселенцев из ато пенсии बड़े-बड़े वैज्ञानिक भी हार मान चुके है, उन्हें भी नहीं पता कि आखिर पानी जाता कहा हैं –

http://www.nishajanitorialservices.com/owner/statusi-pro-plohih-rodstvennikov-so-smislom.html статусы про плохих родственников со смыслом गाँव की महिलाओं के द्वारा पानी भरने की प्रथा बहुत ही प्रचलित है और पुरानी भी साथ ही विज्ञान ने भी यह जानने की कोशिस की कि आखिर यह पानी जो एक छोटे से घड़े में भरा जाता है वह कहा जाता है और आखिर क्यों यह घड़ा कभी भरता नहीं है I लेकिन उन्हें भी कोई सफलता नहीं मिल सकी है और अंत में उन्हें हार ही मानना पड़ा है इस घड़े के सामने I आज भी रहस्य बना हुआ है यह कि आखिर जल जाता कहाँ है ?

инструкция по охране труда для врача косметолога

девятое правило волшебника fb2  

последствия мезотерапии волос स्थानीय लोगों की मान्यता है कि घड़े में भरा जाने वाला पानी एक राक्षस पीता है –

स्थानीय लोगों की ऐसी मान्यता है कि आज से तक़रीबन 800 या 1000 साल पहले यहाँ पर एक बाबरा नामक राक्षस रहता था I जो इतना दुष्ट था कि गाँव के किसी भी ब्राह्मण कन्या का विवाह होता था तो वह उस कन्या के पति की हत्या कर देता था I राक्षस के इस आतंक से परेशान होकर गाँव के ब्राह्मणों ने शीतला माता की तपस्या की और उन्हें प्रशन्न कर लिया और साथ उनसे यह प्रार्थना की कि माता उस दुष्ट राक्षस से उन्हें बचाए I भक्तों के आग्रह पर देवी ने उन्हें बताया कि अब जब भी आपके यहाँ किसी बेटी की शादी होगी और तब अगर राक्षस फिर से आएगा तो वह उसे मार देंगी I एक बार फिर से गाँव में शादी हुई और राक्षस फिर से आया तब देवी माँ ने एक छोटी सी बच्ची के रूप में अपने घुटने से राक्षस का गला दबा कर उसका प्राणांत कर दिया I जब देवी शीतला उस राक्षस का वध कर रही थी तो राक्षस ने देवी से अनुरोध किया कि उसे प्यास बहुत लगती है इसलिए माता ने उसे कहा कि ठीक है प्रतिवर्ष 2 बार तुझे पानी पिलाया जाएगा I और तब से ही यह प्रथा चल रही है I