प्रधानमंत्री से मिले सोनिया-मनमोहन, GST पर हुई चर्चा

0
287

http://frantzmotorinn.com/library/sharf-vorotnik-kryuchkom-shema-i-opisanie.html шарф воротник крючком схема и описание сонник подарили деньги दिल्ली : зуд тела без сыпи причины  कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की. मुलाकात के दौरान वित्त मंत्री अरुण जेटली और संसदीय कार्य मंत्री वैंकेया नायडू मौजूद थे. सूत्रों के मुताबिक बैठक में जीएसटी बिल समेत अन्य लंबित विधेयकों पर चर्चा हुई.

http://carlesroger.es/priority/istoriya-vozniknoveniya-russkih-imen.html история возникновения русских имен मोदी की पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली ने संवाददाताओं से कहा कि कांग्रेस अपनी चिंताओं से जुडे तीन मुद्दों पर आंतरिक चर्चा पूरी कर ले, उसके बाद सरकार नये सिरे से विपक्षी दल से संपर्क साधेगी. पिछले साल सत्ता में आने के बाद से मोदी ने पहली बार मुख्य विपक्षी दल से सीधा संपर्क साधा है. उन्होंने संसद के शीतकालीन सत्र में सुगम कामकाज के उद्देश्य से ऐसा किया.

http://decowood.gr/priority/delaet-kuni-laskaet-grud.html делает куни ласкает грудь मोदी ने मनमोहन और सोनिया को आज अपने आवास पर चाय पर बुलाया था जहां संसद के समक्ष लंबित विभिन्न मुद्दों पर वार्ता हुई और खासतौर पर पिछले दो संसद सत्रों से लंबित कई विधेयकों पर चर्चा हुई. बैठक में संसदीय कार्य मंत्री एम वेंकैया नायडू भी मौजूद थे. पौन घंटे तक चली बैठक के बाद जेटली ने कहा कि कांग्रेस नेताओं ने तीन मुद्दों को लेकर अपना रख रखा.

The Prime Minister, Shri Narendra Modi meeting the former Prime Minister, Dr. Manmohan Singh and the Congress President, Smt. Sonia Gandhi, in New Delhi on November 27, 2015.
The Prime Minister, Shri Narendra Modi meeting the former Prime Minister, Dr. Manmohan Singh and the Congress President, Smt. Sonia Gandhi, in New Delhi on November 27, 2015.

http://soistudio.net/priority/planirovshik-marshrutov-po-evrope.html планировщик маршрутов по европе कांग्रेस की तीन आपत्तियों में संविधान विधेयक में प्रस्तावित 18 प्रतिशत की दर को स्पष्ट करने की मांग, वस्तुओं की राज्यों के बीच आपूर्ति पर एक प्रतिशत अतिरिक्त कर पर आपत्ति और पांच साल के लिए राजस्व घाटे के लिए राज्यों को शत प्रतिशत मुआवजे की मांग शामिल हैं.

как отбелить желтые пятна подмышками на белом जेटली ने कहा, ‘‘इस विधेयक के इतिहास और पृष्ठभूमि तथा इन मुद्दों पर सरकार के जवाब पर उन्हें विस्तार से बताया गया.’ उन्होंने कहा, ‘‘कांगे्रस पार्टी के नेता अपनी पार्टी के भीतर विचार-विमर्श करेंगे और पार्टी के भीतर उनके विचार-विमर्श के बाद इस विषय पर सरकार और उनके बीच नये सिरे से बातचीत होगी। हमने उनकी ओर से रखे गये रख पर भी विचार किया है.’ जेटली ने कहा कि नायडू दोनों सदनों में कांग्रेस के नेताओं से संपर्क में रहेंगे और संसद में लंबित विशेष विधेयकों पर चर्चा करेंगे ताकि अगले सप्ताह काम आगे बढ सके.विधेयक राज्यसभा में अटका है जहां भाजपा नीत राजग के पास इसे पारित कराने के लिहाज से पर्याप्त संख्या बल नहीं है.