यूपी मे लंबे समय से एक ही रेंज या जोन में तैनात एसआई व इंस्पेक्टर हटेंगे

0
63


वाराणसी ब्यूरो : यूपी में लंबे समय से एक ही क्षेत्र, रेंज या जोन में जमे सब इंस्पेक्टरों व इंस्पेक्टरों को अब दूर के जिलों में स्थानान्तरित किया जाएगा। इसी तरह उन पुलिस अधिकारियों को भी हटाया जाएगा, जो स्थानान्तरण नीति के विरुद्ध जिलों में तैनात हैं। यह फैसला सोमवार को डीजीपी सुलखान सिंह की अध्यक्षता में मुख्यालय पर हुई उच्चस्तरीय बैठक में किया गया। अपराधियों से संबंध रखने वाले पुलिस कर्मियों के विरुद्ध विभागीय कार्रवाई करने और दूर के जिलों में भेजने का फैसला भी किया गया।

माफिया की बनाएं सूची, करें सख्त कार्रवाई
डीजीपी ने माफिया व अन्य प्रभावशाली अपराधियों की सूची बनाकर उनके विरुद्ध सख्त कानूनी कार्रवाई करने व उनके विवेचनाधीन मामलों में गहनता से विवेचना कराकर आरोप पत्र दाखिल किया जाए। साथ ही उनके जमानतियों का भी सत्यापन कराएं। उन्होंने कहा जमानत पर छूटे हुए माफिया और गिरोहबंद अपराधियों की जमानतें निरस्त कराई जाएं और नकबजनी, चेन स्नेचिंग तथा लूटेरों व डकैतों के गिरोहों को चिह्नित कर उनके विरुद्ध अभियान चलाया जाए।

जुआ व अवैध शराब के खिलाफ चलेगा अभियान
डीजीपी ने कहा कि सट्टा, जुआ व अवैध शराब के खिलाफ सघन अभियान चलाकर रोक लगाई जाए। आदतन अपराधियों के विरुद्ध गिरोह बंद की कार्रवाई की जाए। ढीले और असफल थाना प्रभारियों व सीओ के विरुद्ध कार्रवाई की जाए। उन्होंने सार्वजनिक स्थानों व सड़कों पर यातायात अनुशासन तत्काल कायम कराने और गलत नंबर प्लेट, हूटर-सायरन, लाल-नीली बत्तियां, काली फिल्में, झण्डे व तख्तियां लगाने पर रोक लगाई जाए। सीट बेल्ट लगाना व हेलमेट पहनना सुनिश्चत किया जाए। यातायात पुलिस द्वारा वाहनों से पैसा वसूली की शिकायतों पर कड़ी कार्रवाई की जाए।

अवैध कब्जेदारों पर कसेगा शिकंजा
डीजीपी ने जमीनों पर कब्जा करने वालों की सूची बनाने तथा पिछले पांच वर्षों में जमीनों व भूखंडों पर कब्जा करने वालों की सूची बनाकर उनके विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाए। गोवध व पशु तस्करी पर सख्ती से रोक लगाई जाए। उन पर रासुका व गैंगस्टर के तहत कार्रवाई की जाए। दिल्ली से बेहतर हो पुलिसिंग डीजीपी ने कहा कि नोएडा व गाजियाबाद की पुलिसिंग सीमावर्ती दिल्ली से बेहतर बनाई जाए। इसके लिए उन्होंने यातायात अनुशासन, पुलिस की यूनीफार्म व वाहन अच्छी दशा में रखने और बाहर से आने वालों की उचित सहायता व मार्गदर्शन करने का निर्देश दिया। उन्होंने जीआरपी को स्टेशनों पर अनुशासन करने, अवैधानिक रूप से चल रहे वेंडरों को बाहर करने, लंबे समय से जीआरपी में तैनात अधिकारियों व कर्मचारियों को हटाने, ट्रेन स्कोर्ट को प्रभावी बनाने और आरपीएफ के साथ तालमेल बना कर रेल गाड़ियों में अपराध पर अंकुश के निर्देश दिया।

जेलों के बाहर बनेगी पुलिस पोस्ट
डीजीपी ने सभी जेलों के बाहर पुलिस पोस्ट बनाने का निर्देश दिया ताकि अपराधियों से मिलने वालों तथा छूटने वाले अपराधियों पर भी नजर रखी जा सके। सभी पुलिस अधिकापी रोज सुबह 10 बजे से दोपहर एक बजे तक कार्यालय में जरूर बैठें। एक सप्ताह में लगवाएं रिपोर्टडीजीपी ने कहा कि किसी जांच, चरित्र सत्यापन, पासपोर्ट व लाइसेंस प्रार्थना पत्र में सामान्य रूप से एक सप्ताह में रिपोर्ट लगा दी जाए। विलंब करने पर सख्त कार्रवाई की जाए। प्रत्येक एनसीआर की जांच तीन दिन में करके उचित कार्रवाई की जाए। टेंपो, रिक्शा व आटो में अधिक सवारी बैठने पर रोक लगाई जाए। बैठक में मुख्यालय में नियुक्त सभी एडीजी व आईजी, एडीजी अभिसूचना और जोनल एडीजी व आईजी शामिल हुए।

रिपोर्ट : रविंद्र नाथ सिंह

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here