उत्तराखंड में जारी है बर्फ़बारी का सिलसिला

0
118


उत्तराखंड में बारिश और बर्फबारी का सिलसिला गुरुवार को भी जारी रहा। चारधाम समेत तमाम चोटियों पर बर्फ की चादर और मोटी हो गई है। केदारनाथ धाम में अब पांच फुट से अधिक बर्फ जम गई है। कैलास मानसरोवर यात्रा मार्ग पर भी जमकर हिमपात हुआ है। निचले इलाकों में कहीं हल्की तो कहीं बौछारें पड़ीं। बर्फबारी और बारिश से पर्वतीय क्षेत्रों में ठिठुरन में इजाफा हो गया है। 

चारधाम की ही बात करें तो बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री में तापमान शून्य से नीचे चल रहा है। वहीं, बर्फबारी से पहाड़ में दिक्कतें बढ़ गई हैं। बदरीनाथ राजमार्ग पर घुड़सिला के पास हिमखंड टूटने से वहां तैनात सीमा सड़क संगठन के दो मजदूर बाल-बाल बचे, जबकि उत्तरकाशी के जानकीचट्टी में एक होटल की छत ढह गई। यही नहीं, बदरीनाथ, यमुनोत्री व गंगोत्री राजमार्ग अलग-अलग स्थानों पर बाधित हो गए हैं। 

अलबत्ता, औली समेत विभिन्न स्थानों पर सैलानियों ने बर्फबारी का खूब लुत्फ उठाया। उधर, मौसम विभाग ने अगले 48 घंटों में पूरे कुमाऊं रीजन और गढ़वाल के तीन जिलों में कुछ स्थानों में भारी वर्षा और बर्फबारी की चेतावनी जारी की है।

मौसम की बदली करवट के साथ ही मंगलवार शाम से बदरीनाथ, हेमकुंड साहिब और केदारनाथधाम से शुरू हुआ बर्फबारी व वर्षा का क्रम गुरुवार को भी बना रहा। चमोली, रुद्रप्रयाग, उत्तरकाशी व पिथौरागढ़ जनपदों में स्थित चोटियों पर लगातार बर्फबारी हो रही है। सूबे के निचले इलाकों में कहीं बूंदाबांदी, कहीं फुहारें और कहीं बौछारों का सिलसिला रुक-रुककर दिनभर ही चलता रहा। यही नहीं, दून समेत कुछ स्थानों बादलों और सूरज के बीच लुकाछिपी का खेल चला। बर्फबारी और बारिश के साथ ही ठंडी बयार चलने से पारे पर अंकुश लगा है। साथ ही ठंडक भी खूब बढ़ गई है।

यहां बर्फबारी का क्रम जारी
बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री, हेमकुंड साहिब, औली, कागभुसंडि, पांडुकेश्वर, हरकीदून तुंगनाथ, चोपता, जानकीचट्टी, फूलचट्टी, गीठ, फतेह पर्वत, सरनौल क्षेत्र के दर्जनों गांव, खरसाली, रैथल, बार्सु, चौरंगी, राड़ी टॉप, कैलास मानसरोवर यात्रा मार्ग, थल, मुनस्यारी आदि
चारधाम में न्यूनतम तापमान

बदरीनाथ,  (-8)

केदारनाथ, (-7)

गंगोत्री, (-4)

यमुनोत्री, (-6)

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY