शिक्षण सामग्री वितरित करते हुए समाजसेवी

0
61


जालौन ब्यूरो : बाबा साहब डाॅ. भीमराव अंबेडकर ने समूचे समाज को शिक्षा का महत्व बताते हुए कहा था कि भूख और गरीबी से लड़ने के लिए शिक्षा अचूक हथियार है। इसलिए इस हथियार का प्रयोग अवश्य करें। यह बात समाजसेवी धीरज बाथम ने मुहल्ला हरीपुरा में शैक्षिक रूप से वंचित बच्चों को पढ़ाई की सामग्री वितरित करते हुये कही।

बाबा साहब डाॅ. भीमराव अंबेडकर की जयंती पर शैक्षिक रूप से पिछड़े नगर के मोहल्ले हरीपुरा में आयोजित एक कार्यक्रम में गरीब बच्चों को मोहल्ले में ही निःशुल्क कोचिंग उपलब्ध कराने का वादा करते हुए धीरज बाथम ने कहा कि कोचिंग का सारा खर्च वह स्वयं उठाऐंगे। तो वहीं, डाॅ. शैलेंद्र सिंह ने कहा कि बाबा साहब का जीवन हमें प्रेरणा देता है कि बुराई के विरुद्ध अनवरत संघर्ष करना चाहिए। वर्तमान में नशा खोरी एक बुराई है। हमें इसके खिलाफ संगठित होकर लड़ना चाहिए। कार्यक्रम के दौरान 30 बच्चों को हिंदी, अंग्रेजी सहित आर्टबुक, पेन, पेंसिल, रबर, कटर एवं स्केच कलर दिये गये। जिन्हें पाकर बच्चों के चेहरे खिल उठे। कार्यक्रम में उपस्थित शिक्षक शैलेंद्र ने बच्चों को प्रतिदिन स्कूल जाने की शपथ दिलाई। इसके अलावा उन्होंने बच्चों से माता-पिता की बात मानने का वादा भी लिया। इस मौके पर हरिश्चन्द्र जाटव, कन्हैया जाटव, मूल चन्द्र जाटव समेत कई लोग उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here