गरीब ने विदेश से बेटे का शव लाने की लगाईं गुहार, विदेश मंत्रालय ने दिया पूरा साथ

0
93


प्रतापगढ़ (ब्यूरों) : बीते 6 माह पूर्व विदेश में काम कर रहे युवक की मौत के बाद सूचना घर पहुँचने पर परिजन बेटे का शव लाने के लिए दर दर की ठोकरें खाई परंतु सफलता नहीं मिली । जब इसकी जानकारी कौशाम्बी सांसद को हुई तो उन्होंने विदेश मंत्रालय को पत्र लिखकर ntryअमरेश का शव उसके गृह गाँव मंगाने का परिवार को आश्वासन दिया। सांसद के प्रयास से गुरुवार को अमरेश का शव गाँव पहुंच रहा है ।

जानकारी के अनुसार हथिगवां थाना क्षेत्र के कैमा (कलवरिया) निवासी स्व0 समर बहादुर पटेल का 22 वर्षीय पुत्र अमरेश कुमार पटेल दो वर्ष पूर्व विदेश सऊदी अरब परिवार के जीवकोपार्जन के लिए गया था। जहां वह कड़ी मेहनत मजदूरी कर अपने परिवार को पैसे भेजता था । बीते 15 नवंबर 2016 को काम करते समय दीवार से गिर गया जहां उसकी दर्दनाक मौत हो गई। घटना की सूचना घर पहुंचने पर परिजनों पर दुख का पहाड़ टूट पड़ा । इस बीच बेटे का शव लाने के लिए पूरा परिवार परेशान था दर-दर की ठोकरें खाने के बाद जब उसे सफलता नहीं मिली तो पीड़ित परिवार के रिश्तेदार उमा शंकर पटेल ने सांसद कौशाम्बी विनोद सोनकर को घटना से अवगत कराया । इस पर सांसद बहुत दुखी हुए उन्होंने तत्काल अमरेश का विवरण लिया और विदेश मंत्रालय को पत्र लिखा । जिसके परिणाम स्वरुप 11 मई को अमरेश का शव गांव पहुंच रहा है ।

बेटे की मौत से दुःख का पहाड़ टूट पड़ा। कुण्डा। परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक न होने के कारण अमरेश पटेल विदेश कमाने गया था । परंतु उसकी मौत से परिजनों पर दुख का पहाड़ टूट पड़ा है । बेटे को विदेश भेजने के लिए रिश्तेदारों से मोटी रकम लेकर दलाल के माध्यम से बेटे अमरेश को विदेश भेजा । परंतु परिवार को ऐसी खबर सुनने की उम्मीद नहीं थी । मृतक अमरेश के पिता स्वर्गीय समर बहादुर पटेल कि 3 वर्ष पूर्व बीमारी से मौत हो गई थी । बड़े भाई राम नरेश (30) गांव में रहकर मेहनत मजदूरी करते हैं। छोटा भाई किशन लाल(18) अभी पढ़ाई कर रहा है घर की माली हालत ठीक न होने के कारण अब यह परिवार कैसे अपना जीवन यापन करेगा। गांव के लोग परिवार को ढांढस बंधा रहे हैं।

रिपोर्ट : विश्व दीपक त्रिपाठी

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY