बागेश्वर में सरेआम भतीजे ने कुल्हाड़ी से गर्दन काट कर चाचा की निर्मम हत्या, गिरफ्तार

0
21

बागेश्वर में एक खौफनाक घटना प्रकाश में आई है। यहां एक भतीजे ने अपने चाचा को सरेआम कुल्हाड़ी से काटकर मौत के घाट उतार दिया। बताया जा रहा है की पंद्रहपाली गांव में किसी बात को लेकर चाचा और भतीजे में विवाद हो गया। देखते ही देखते विवाद इतना बढ़ गया कि भतीजे ने आपा खो दिया और इस खौफनाक घटना को अंजाम दे दिया। घटना में बीचबचाव करने आई चाची को भी घायल कर दिया। हत्या की इस घटना से गांव में दहशत व्याप्त है।

दरअसल बागेश्वर में बालीघाट के पास स्थित गांव पंद्रहपाली निवासी गणेश जोशी (55 वर्ष) की भतीजे गिरीश जोशी(32 वर्ष) के साथ किसी बात को लेकर कहासुनी हो गर्इ। नौबत हाथापार्इ तक की आ गर्इ। बीच-बचाव करने आए परिजनों ने दोनों को समझाने की कोशिश की, लेकिन उन्होंने एक ना सुनी। तभी गुस्साएं गिरीश ने घर के बाहर से कुल्हाड़ी उठाकर चाचा की गर्दन पर वार कर दिया, जिससे गणेश की मौके पर ही मौत हो गई। साथ ही बचाव करने में गणेश की पत्नी भी घायल हो गई।घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और घना सथल से आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। शव को कब्ज़े में लेकर पंचनामा भर लिया गया है। फिलहाल, आरोपी से पूछताछ की जा रही है।  गणेश जोशी पंडिताई का काम करते थे जबकि हत्यारोपी भतीजा बेरोजगार है।

वहीं भेल के संविदाकर्मी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत के मामले में भेल मेन हॉस्पिटल के तीन डॉक्टरों के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मुकदमा दर्ज कराया गया है। डॉक्टर पर आरोप है कि उन्होंने संविदाकर्मी की मौत होने से पहले ही उसे मृत घोषित कर दिया। इस मामले की स्वास्थ्य विभाग की एक टीम भी जांच कर रही है। फिलहाल पुलिस ने डॉक्टरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।ज्वालापुर के शास्त्रीनगर कॉलोनी निवासी कृष्ण कुमार भेल में संविदा पर कार्य करता था। बीते 14 जनवरी को ड्यूटी के दौरान उसकी तबीयत बिगड़ने पर सहकर्मियों ने उसे भेल के मेन हॉस्पिटल में भर्ती कराया था। जहां रात में ही डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया और उसे मोर्चरी में रखवा दिया था।

Advertisements

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here