डा. भरत झूनझूनवाला ने युवाओं को दिया, गंगा और सहायक नदियों के अस्तित्व के लिये संघर्ष का मन्त्र

0
47


वाराणसी (ब्यूरो)- कल 12/8/17शनिवार को असि नदी मुक्ति अभियान द्वारा आजाद पार्क लहुरावीर में आयोजित “गंगा और उसकी सहायक नदियां असि और वरूणा की मूलभूत समस्यायें और उसके समाधान” विषयक विमर्श में बोलते हुए बतौर मुख्य वक्ता डा0 भरत झूनझूनवाला ने युवाओं को सफलता के मंत्र दिये ।

उन्होने अभियान के माध्यम से असि नदी पर हुए वृक्षारोपण एवं चौडीकरण की सराहना भी की, उन्होंने बताया कि हमें सरकार को जमीनी हकीकत से रूबरू कराते रहना होगा आरटीआई, पीआईएल, जनमत संग्रह आदि का सहारा लेते हुए हमे आगे बढ़ना होगा, ज़रूरत पड़ने पर होलडिंग पंपलेट आदि भी वितरित किये जाये |

उन्होंने आगे कहा कि नदियों को उनके मूल प्राकृतिक प्रवाह में छोड़ना चाहिए, बड़े बांध गंगा के लिये घातक हैं | उन्होंने कहा कि जल परिवहन बनारस मौलिकता को नष्ट कर देगा, उन्होने पक्के घाटों के औचित्य पर प्रश्न करते हुए कहा कि अगर गंगा को कच्ची मिट्टी पसंद है तो हम पक्के घाट बना कर गंगा के साथ ना इंसाफी कर रहे हैं, अपने स्वभाव के अनुरूप ही गंगा एक तरफ मिट्टी और एक तरफ बालू छोड़ती हैं, हमे गंगा कि मौलिकता की हर हाल मे रक्षा करनी होगी |

सभा में सर्व श्री डा.आनंद प्रकाश तिवारी, सुरेश प्रताप, त्रिलोचन शर्मा, सजल जल प्रहरी, व्योमेश चित्रवंश, सूरज पांडे, प्रदीप सिंह, राजकुमार गुप्ता, गुन्जन गुप्ता, जयप्रकाश श्रीवस्ताव, राहुल मिश्रा, आदि ने अपने विचार प्रगट किये तथा संचालन कपीन्द्र तिवारी ने किया |

रिपोर्ट – सन्तोष कुमार सिंह

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY