इस विद्यालय में सर्कस वाले कपड़ो की तरह बच्चे पहनते हैं ड्रेस

0
38


रायबरेली (ब्यूरो) विकासखंड राही न्याय पंचायत में छरहरा ग्रामसभा में बने प्राथमिक विद्यालय में हुए ड्रेस वितरण में कुछ ग्रामीणों ने आपत्ति जताई है कि प्रधानाचार्य पूनम जी ने मनमाने तरीके से ड्रेस वितरण का कार्य किया, जो ड्रेस बांटी गई है वह थर्ड क्वालिटी की और घटिया है | लोगों का कहना है कि अभी ड्रेस बांटे हुए हफ्ते भर भी नहीं हुए होंगे ड्रेस फटने लगी है और उनका घटिया रंग वा क्वालिटी सामने आने लगा है, जब इसकी शिकायत लोगों ने तैनात प्रधानाचार्य मैडम पूनम जी से की तो मैडम ने कहा कि जो ड्रेस आई है वही मिलेंगी हम अपने घर में नहीं बनाते हैं जब यह बात लोगों ने क्षेत्रीय मीडिया कर्मी से बताई तो मीडिया के प्राथमिक विद्यालय छरहरा पहुंचने पर पाया गया बच्चे अपने में मशगूल थे और मैडम पूनम जी फोन पर बात करते हुए बाहर व पीछे टहल रही थी काफी देर बाद जब मैडम फोन से फ्री हुई तो आके गुस्साए शब्द से पूछा कि आप लोग यहा कैसे और किसने आने दिया जब मीडिया के लोगो ने अपना परिचय बताया तो मैंडम ने कहा अपना आई डी कार्ड दिखाईये और इतने मे मैडम गुस्से मे बोली पहले अपना कार्ड दिखाईये नहीं तो बाहर जाईये और अपनी बात पर अड़ी रही | कोई भी जानकारी देने से साफ मना कर दिया और कहा जिससे शिकायत करना है कर लो वा रोष जताया कि पता नही कहाँ-कहाँ से चले आते हैं |

मीडिया के लोगों ने पूछा कि क्या गाँव का कोई आम नागरिक कोई जानकारी नहीं ले सकता है तब मैडम ने कहा कि आप लोग यहाँ बहस न करें आपना काम करें जिससे शिकायत करना है कर लो |

जर्जर विद्यालय के नीचे पढ़ने को मजबूर छात्र
वहीँ दूसरी तरफ बताते चले कि उसी विद्यालय मे बिल्डिंग इतनी जर्जर हो चुकी है कि आये दिन यह डर बना रहता है कि तेज बारिश होने पर गिर न जाए, बच्चों के भविष्य के साथ अधिकारी खिलवाड़ कर रहे हैं, बच्चे जर्जर बिल्डिंग के नीचे पढ़ाई कर रहे हैं कभी भी कोई भी घटना घट सकती है उस विद्यालय में लगभग 100 से ऊपर बच्चों का नाम लिखा हुआ है पर कभी बीस तो कभी 30 बच्चे ही पढ़ाई करने आते हैं | विद्यालय भवन निर्माण कार्य किए हुए अभी चार साल भी ठीक से नहीं हुए होंगे कि पूरा विद्यालय जर्जर हो गया है | जिसकी छते बारिश होने पर टपकने लगती और न ही कोई पानी की व्यवस्था है और न ही बाउंड्री वॉल का पूरा काम कराया गया है आधी अधूरी बाउंड्री वॉल कर के छोड दिया गया ह

रिपोर्ट – अनुज मौर्य/शिवा मौर्य

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY