जिला जज ने किया जिला कारागार का आकस्मिक निरीक्षण

0
141


मैनपुरी (ब्यूरो) जिला जज उमेश शर्मा, जिलाधिकारी यशवन्त राव, पुलिस अधीक्षक राजेश एस ने आज जिला कारागार का आकस्मिक निरीक्षण कर निरूद्ध बन्दियो का हालचाल जाना। आला अधिकरियो ने अपनी मौजूदगी में जिला कारागार के बैरिक नं. 7ए,बी, 8ए, बी, बाल सुधार गृह, पाकशाला का भ्रमण केर निरूद्ध बन्दियों, उपलब्ध कराये जा रहे खाने का जायजा लिया।

उन्होने बन्दियो से सीधे संवाद करते हुए समय पर इलाज ,खाना,पैरवी के बारे में जानकारी ली। कुछ बन्दियेा ने बताया कि उनके पास पैरवी के लिये कोई नहीं है और ना ही उनके पास अधिवक्ता है। इस पर उन्होने अधीक्षक कारागार को आदेशित किया कि वह ऐसे समस्त बन्दियों की सूचीं तत्काल उपलब्ध करायें जिन्हें पैरवी हेतु अधिवक्ता की आवश्यकता है।

उन्होने कहा कि जिस किसी भी बन्दी को इलाज की आवश्यकता हो उसे तत्काल चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराई जाये। उन्होने बन्दियेा को मीनू के अनुसार उत्तम क्वालिटी का खाना मुहैया कराने को कहा।

अधिकारियो ने महिला बैरक में जाकर विभिन्न धाराओ में विचाराधीन, सिद्धदोष बन्दियो का हालचाल जाना। उन्होने कहा कि विचाराधीन महिलाओ की तत्काल तिथियां निश्चित कर सुनवाई की जायेगी। उन्होने बच्चा बैरिक का भी निरीक्षण कर बन्दी बच्चो से बात की, कुछ बन्दियो ने बताया कि उनकी पैरवी नहीं हो रही है | उन्हें अधिवक्ता मुहैया कराया जाये, उन्होने जेल में निरूद्ध 60 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के कैदियो की चार्जसीट प्राथमिकता पर दाखिल कराये जाने, गवाहों की उपस्थिति सुनिश्चित कराने, 05 साल से पुराने, 30 बन्दियों के प्रकरण तत्काल निपटाये जाने हेतु प्रभावी कार्यवाही के निर्देश भी दिये। जिला जज ने ऐसे जांच अधिकारियो जो समय से उपस्थित नहीं होते हैं के विरूद्ध प्रभावी कार्यवाही को कहा।

उन्होने जेल परिसर में निर्णाधीन 10 नई बैरिकों का स्थलीय निरीक्षण कर जेल अधीक्षक को कार्य की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दिये जाने के निर्देश दिये। जिला कारागार में 1102 बन्दी है जिसमें 183 सिद्धदोष, 916 विचाराधीन तथा 03 मृत्यु दण्डित है। बन्दियेां में 45 महिलायें एवं 44 बच्चे शामिल है। निरीक्षण के दौरान एसीजेएम तरूण कुमार सिंह, अधीक्षक कारागार, जेलर आदि उपस्थित रहे।

रिपोर्ट – दीपक शर्मा

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY