चीनी सीमा के नजदीक भारतीय वायुसेना का सुखोई-30 विमान लापता, तेजपुर से भरी थी उड़ान

0
325


तेजपुर/असम- भारतीय वायुसेना के अग्रिम मोर्चे के और दुनिया के सबसे बेहतरीन फाइटर जेट्स में शुमार सुखोई एमकेआई-30 विमान आज दोपहर तब लापता हो गया जब वह अपनी रुटीन ट्रेनिंग उड़ान पर था | बताया जा रहा है कि सुखोई ने आज सुबह तकरीबन 10:30 बजे असम के तेजपुर एयरबेस से रूटीन उड़ान भरी थी इस विमान में दो पायलट सवार थे | तकरीबन 11:30 बजे विमान का संपर्क रडार से कट गया जिसके बाद से ही विमान लापता हो गया है | विमान को खोजने के लिए लगातार प्रयास वायुसेना कर रही है लेकिन अभी तक विमान के बारे में कोई भी पता नहीं चल सका है | यह भी बताते चलते है कि विमान उस समय लापता हुआ जब वह तेजपुर से तकरीबन 60 किमी की दूरी पर उड़ान भर रहा था |

7 साल में हो चुके है 7 हादसे-
बताते चले की देश ही नहीं अपितु दुनिया के सर्वाधिक बेहतर माने जाने वाले फाइटर एयरक्राफ्ट्स में शुमार सुखोई एमकेआई-30 विमानों का निर्माण रूस की सुखोई एविएशन कॉरपोरेशन ने किया है | यह विमान भारतीय वायुसेना के अग्रिम मोर्चे के विमान है और इस समय भारतीय वायुसेना के पास 240 सुखोई विमान है | इस एक विमान की कीमत तकरीबन 358 करोंड रूपये है | यह विमान 4.5 जनरेशन का बेहतरीन दो इंजन वाला फाइटर जेट है | एक रिपोर्ट के अनुसार बीते 7 सालों में 7 सुखोई विमान हादसे का शिकार हो चुके है |

क्या है खासियतें –
सुखोई विमान के बारे में बता दें कि यह दो इंजन वाला बेहतरीन फाइटर जेट है तथा यह हर तरह के मौसम में उड़ान भरने में सक्षम है और इतना ही नहीं इस विमान की सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह विमान हवा से हवा में कैट फाइट से लेकर मिसाइल दागने, हवा से सतह तक में मार करने में सक्षम है | भारत ने इस विमान की मारक क्षमता और ताकत दोनों में दुनिया की सबसे तेज मिसाइल ब्रह्मोस लगाकर अमूल-चूल परिवर्तन कर दिए है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here