सुल्तानपुर: विभिन्न मामलों में अदालत द्वारा की गयी कार्यवाही

0
37

सुलतानपुर(ब्यूरो)- (१). हत्या, दहेज हत्या व हेरा-फेरी कर एटीएम से लाखों रूपए निकालने के मामले में चार आरोपियों की तरफ से जमानत अर्जी पेश की गयी। जिसे सम्बंधित अदालतों ने खारिज कर दिया।

पहला मामला अखंडनगर थाना क्षेत्र का है। जहां के अलाऊद्दीनपुर-गुलरा निवासी मिंटू पांडेय के खिलाफ श्रीराम कनौजिया की गैर इरादतन हत्या का आरोप है। इसी मामले में आरोपी की तरफ से स्पेशल जज एससी-एसटी की अदालत में जमानत अर्जी पेश की गयी। वहीं इसी अदालत में जगदीशपुर थाना क्षेत्र में हुई घासीबीर बाबा मठ के पुजारी व उसके सहयोगी सीताराम की ईंट से सिर कुचलकर हुई हत्या के मामले में आरोपी सिपाही सुशील कुमार शुक्ला निवासी पूरेमौज तिवारी मजरे बबुरी थाना मुसाफिर खाना की तरफ से जमानत अर्जी पेश की गयी। दोनों मामलों में प्रस्तुत आरोपियों की जमानत अर्जी पर शासकीय अधिवक्ता सीएल द्विवेदी के विरोध पर स्पेशल जज उत्कर्ष चतुर्वेदी ने अर्जी खारिज कर दिया है। तीसरा मामला कादीपुर कोतवाली थाना क्षेत्र का है। जहां पर एटीएम कार्ड के सहारे हेर-फेरी कर पौने चार लाख रूपए निकालने के मामले में आरोपीगण सुनील सोनकर व श्यामबाबू गौतम निवासीगण कौड़िया मजरे ठकढौलिया शाहंगंज जौनपुर की तरफ से एडीजे सप्तम की अदालत में जमानत अर्जी पेश की गयी। जिस पर शासकीय अधिवक्ता रमेशचंद्र यादव ने विरोध जताया। तत्पश्चात सत्र न्यायाधीश अजय कुमार दिक्षित ने आरोपियों की जमानत खारिज कर दी।

(२). कमरौली थाना क्षेत्र में हुए प्राणघातक हमले के मामले में आरोपी रफीक निवासी बनभरिया चांदगढ़ व मुसाफिरखाना थाना क्षेत्र में हुए प्राणघातक हमले के मामले में आरोपीगण चंद्रकेश यादव व देवनरायण निवासी लौहारन का पुरवा ने जिला जज की अदालत में जमानत अर्जी प्रस्तुत की। जिनकी अंतरिम जमानत अर्जी पर जिला शासकीय अधिवक्ता शुकदेव यादव के विरोध के पश्चात जिला जज प्रमोद कुमार ने अर्जी खारिज कर दी।

(३). हाईकोर्ट के निर्देश के बावजूद भी युवती के अपहरण व दुष्कर्म के मामले में मेडिकल व बयान न दर्ज कराने के मामले में लापरवाह दरोगा को सीजेएम विजय कुमार आजाद ने कड़ी फटकार लगायी एवं करीब दो घंटे तक कस्टडी में खड़ा कराए रखा।

मालूम हो कि कोतवाली नगर क्षेत्र में हुए अपहरण व दुष्कर्म के मामले में पीड़िता का मेडिकल व बयान दर्ज कराने के लिए हाईकोर्ट ने निर्देश दिया था।मामले में सचिन उपाध्याय पयागीपुर पर घटना कारित करने का आरोप लगा है, हाईकोर्ट के निर्देश के बावजूद लक्ष्मणपुर चौकी प्रभारी महेन्द्र कुमार ने लापरवाही बरती। यहां तक कि बीते 5, 8, 10 अगस्त को अदालत के आदेश के बावजूद भी गैर हाजिर रहे। गुरूवार को पीड़िता पक्ष के अधिवक्ता ने कार्यवाही की मांग की। जिस पर कड़ा रूख अख्तियार करते हुए सीजेएम ने दरोगा महेन्द्र कुमार व नगर कोतवाल को तलब कर लिया एवं करीब दो घंटे तक दरोगा महेन्द्र कुमार को कस्टडी में खड़ा कराए रखा। अदालत ने पीड़िता का मेडिकल व बयान दर्ज कराने की सूचना पाने के बाद दरोगा को कस्टडी से आजाद करने का आदेश दिया।

रिपोर्ट- संतोष यादव

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY