सुनंदा मर्डर केस- स्वाभाविक मौत नहीं हुई थी बल्कि खतरनाक ज़हर से मौत हुई सुनंदा पुष्कर की

0
317

नई दिल्ली- बहुचर्चित सुनंदा पुष्कर मामले में एक नया मोड़ आया है. पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्कर की मौत स्वाभाविक नहीं थी. दिल्ली पुलिस आयुक्त बीएस बस्सी ने शुक्रवार को सुनंदा के विसरा नमूने पर एफबीआई की रिपोर्ट का विश्लेषण करने वाली एम्स की रिपोर्ट के आधार पर यह जानकारी दी.

दिल्ली पुलिस के कमिश्नर बीएस बस्सी ने कहा है कि कांग्रेस नेता शशि थरूर की पत्नी सुनंदा थरूर की मौत स्वाभाविक नहीं थी. लेकिन उनके शरीर से कोई रेडियो एक्टिव पदार्थ भी नहीं मिला है.

बस्सी ने कहा कि इस बहुचर्चित मामले को कानूनी निष्कर्ष तक पहुंचाया जाएगा और इसके लिए सभी संभावित कोणों से तहकीकात की जाएगी. उन्होंने बताया कि जांच और सबूतों के आधार पर एक बात स्पष्ट तौर पर कही जा सकती है कि सुनंदा की मौत प्राकृतिक नहीं थी. बीएस बस्सी ने कहा कि इस हाई प्रोफाइल केस के सभी पहलुओं की जांच की जा रही है और ये जल्द ही पूरी हो जाएगी.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार अमरीकी खुफिया विभाग एफ़बीआई की प्रयोगशाला में सुनंदा के विसरा नमूने की जांच रिपोर्ट का विश्लेषण ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंस के डॉक्टरों के एक बोर्ड ने किया था. इसी के आधार पर दिल्ली पुलिस ने शुक्रवार को यह जानकारी दी.

गौरतलब है कि पिछले साल जनवरी में दिल्ली पुलिस ने सुनंदा थरूर की मौत के मामले में हत्या का केस दर्ज़ किया था. मौत से एक दिन पहले सुनंदा का पाकिस्तानी पत्रकार मेहर तरार से अपने पति और कांग्रेस सांसद शशि थरूर से संबंधों के कारण ट्वीटर पर विवाद हुआ था.

एफ़बीआई ने दो महीने पहले ही अपनी रिपोर्ट दिल्ली पुलिस को भेज दी थी. इस रिपोर्ट में रेडियो एक्टिव पदार्थ से ज़हर फैलने की बात को खारिज किया गया था. जांचकर्ता अब तक छह लोगों का पॉलीग्राफ परीक्षण कर चुके हैं और शशि थरूर से भी तीन बार इस मामले में पूछताछ की जा चुकी है.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY