डीपीओ कार्यालय को हड़ताली शिक्षकों ने घेरा

0
95

मबनीधु: समान काम के बदले समान वेतन की मांग करते हुए प्रारंभिक शिक्षक संघ के बैनर तले हड़ताली शिक्षकों ने डीपीओ स्थापना कार्यालय पर रोषपूर्ण प्रदर्शन करते हुए घेराबंद की एवं कामकाज को ठप करा दिया| शिक्षकों ने कहा कि सरकार का रवैया पूरे बिहार से शिक्षा और इसकी गुणवत्ता को खत्म कर देने का है| डीपीओ कार्यालय के बरामदे पर धरना देकर शिक्षकों ने बिहार की गिरती शिक्षा व्यवस्था के लिए सरकार की नीति को जिम्मेदार बताया|
जिला अध्यक्ष संजीव कामत के नेतृत्व में आयोजित इस घेराव कार्यक्रम में शिक्षकों ने कहा कि बिहार में प्राइवेट स्तर पर सांठगांठ कर सरकारी शिक्षा व्यवस्था को चौपट किया जा रहा है| शिक्षकों को गैर—शैक्षणिक कार्यों में अधिकारी हर वक्त लगाए रखते हैं|

न्यायालय के आदेश को भी ताक पर रखने का काम अधिकारी और सरकार की नीति हमेशा करती रही है| इसके खिलाफ आंदोलन किया जाता रहेगा ताकि राज्य के गरीब और निचले तबके के परिवार के बच्चे अपना भविष्य संवार सकें| शिक्षकों ने कहा कि समान काम के बदले समान वेतन तो संवैधानिक अधिकार है| इसके लिए सरकार घोषणा भी करती रही है, लेकिन काम निकलते ही सरकारी अमले इन शिक्षकों को हिकारत की नजर से ही देखते हैं|
शिक्षक हित का चाहे जो मामला हो सरकार हमेशा उपेक्षापूर्ण नीति अपनाती रही है| इससे साफ है कि सरकार की नजर में बिहार की शिक्षा व्यवस्था का कोई महत्व नहीं है| लंबे समय से हड़ताल जारी है, बावजूद मुख्यमंत्री को इन सब बातों से कोई वास्ता नहीं| झूठी लोकप्रियता हासिल करने के जो भी साधन अपनाए जा सकते हैं, अपनाने में दिन—रात मशरूफ हैं| मौके पर अवधेश झा, रंजन चौधरी आदि ने भी अपने विचार रखे| इधर लदनियां, बासोपट्टी, हरलाखी, झंझारपुर, लखनौर, फुलपरास, घोघरडीहा में भी शिक्षकों ने अपने रोष का इजहार किया|

रिपोर्ट- आशुतोष कुमार सिंह

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY