झांसा देकर फर्जी शर्टिफिकेट के सहारे अध्यापक बने तीन शिक्षकों की सेवा समाप्त

बलिया(ब्यूरो)- बेसिक शिक्षा परिषद को झांसा देकर फर्जी शर्टिफिकेट के सहारे अध्यापक बने तीन शिक्षकों की सेवा जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी सुबास गुप्त ने समाप्त कर दिया है। यही नहीं, बर्खास्त शिक्षकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी गयी है। साथ ही वेतन इत्यादि के मद में भुगतानिक धनराशि राजकोष में जमा करने का आदेश भी दिया गया है। ग्रीष्मावकाश के बाद स्कूल खुलते ही हुई इस कार्रवाई से हड़कम्प मच गया हैं।

बीएसए सुबास गुप्त ने बताया कि उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद द्वारा संचालित 16448 शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया के अंतर्गत चयनित अभ्‍यर्थियों को इस शर्त पर नियुक्ति पत्र दिया गया था कि सत्यापन में शैक्षिक या अन्य प्रमाण पत्र गलत पाये गये तो नियुक्ति तिथि 29 अगस्त 2016 से सेवा समाप्त कर दी जायेगी।

जांचोपरांत शिक्षा क्षेत्र मुरलीछपरा के प्रावि टोला रामेश्वर राय पर तैनात रामसजीवन पुत्र पृथ्वीपाल यादव के स्रातक व शिक्षा क्षेत्र बैरिया अंतर्गत कन्या प्रावि श्रीकांतपुर पर तैनात श्याम सिंह पुत्र राम आधार यादव के इंटमीडिएट का शर्टिफिकेट कूटरचित पाया गया। वहीं, शिक्षा क्षेत्र रेवती के प्रावि यादव बस्ती वार्ड नम्बर-03 पर नियुक्त स.अ. चन्द्रकांत यादव पुत्र रामबचन यादव के हाईस्कूल, इंटरमीडिएट व स्नातक का शैक्षिक प्रमाण पत्र गलत पाया गया है। बीएसए ने बताया कि सम्बंधित शिक्षकों से उक्त के बावत स्पष्टीकरण भी मांगा गया, लेकिन किसी ने कार्यालय को प्राप्त नहीं कराया। इस दशा में इनकी सेवा समाप्त कर हुए अन्य कार्रवाई की प्रक्रिया शुरू कर दी गयी है।

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY