टीम ने जुटाये घटनास्थल से साक्ष्य, सीओ जियाउल हक हत्याकांड का मामला

0
216

रायबरेली : कुंडा के सीओ जियाउल हक हत्याकांड के आरोपी की ऊंचाहार मे हुई संदिग्ध मौत मे पूर्व मंत्री रघुराज प्रताप सिंह राजा भैया और एमएलसी अक्षय प्रताप सिंह सहित पाँच लोगो पर हत्या व साजिश के मुकदमे मे गुरुवार को ऊंचाहार आयी विधि विज्ञान प्रयोगशाला लखनऊ के चिकित्सको की टीम ने घटनास्थल और दुर्घटना वाले ट्रक से नमूने लिए है, तथा घटना से जुड़े साक्ष्यों को संकलित किया है।

बीती 10 मार्च कि रात कुंडा तहसील के बलीपुर गाव के योगेन्द्र यादव उर्फ बबलू की ऊंचाहार के अरखा गाव के पास एक ट्रक की टक्कर से मौत हो गयी थी। बबलू के पिता नन्हेलाल यादव की सन 2013 मे हत्या हो गयी थी। जिसके बाद हुए बवाल मे सीओ जियाउल हक की भी हत्या हो गयी थी। इस हत्याकांड मे कुंडा के बाहुबली विधायक राजा भैया नामजद हुए थे। इसी मे बबलू भी सी ओ की हत्या मे नामजद हुआ था। जो जेल से रिहा होने के बाद बाइक से कही जा रहा था कि उसकी सड़क दुर्घटना मे मौत हो गयी। दूसरे दिन बबलू के चाचा सुधीर कुमार यादव ने इस दुर्घटना को साजिश बताते हुए राजा भैया और उनके रिश्तेदार एमएल सी अक्षय प्रताप सिंह सहित पाँच लोगो पर साजिश करके हत्या करने का मुकदमा कोतवाली मे दर्ज कराया था, जिसकी विवेचना की जा रही है। इस मामले मे गुरुवार को विधि विज्ञान प्रयोगशाला लखनऊ के संयुक्त निदेशक डा जी खान के नेत्रत्व मे एक टीम ऊंचाहार पहंुची और दुर्घटना ग्रस्त ट्रक व घटना स्थल से नमूना लिया। टीम ने दोनों स्थानो से फोटोग्राफ भी लिए । इस टीम मे प्रयोगशाला के वैज्ञानिक अधिकारी डा अरशद के अलावा रायबरेली फोरेंसिक टीम कि प्रभारी डा प्रतिभा तिवारी भी शामिल थी।

रिपोर्ट – राजेश यादव

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY