तीन दिवसीय अन्त्योदय मेला एवं प्रदर्शनी का आज हुआ शुभारम्भ

0
79

सुलतानपुर (ब्यूरो)- पं.दीनदयाल उपाध्याय जन्मशताब्दी वर्ष के अन्तर्गत ब्लाक मुख्यालय पी.पी. कमैचा में तीन दिवसीय अन्त्योदय मेला एवं प्रदर्शनी का आज शुभारम्भ हुआ। सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सपना शुक्ला ने दीपप्रज्जवलित कर व पं.दीनदयाल उपाध्याय जी के चित्र पर मार्ल्यापण कर समारोह का शुभारम्भ किया।

समारोह को सम्बोधित करती हुई सचिव सपना शुक्ला ने कहा कि पं.दीनदयाल उपाध्याय जन्मशताब्दी वर्ष के अन्तर्गत आयोजित इस तीन दिवसीय अन्त्योदय मेला एवं प्रदर्शनी का मुख्य उद्देश्य समाज के अन्तिम व्यक्ति का विकास है। इसी प्रकार न्याय पालिका सबके लिये समान है। गरीब व निर्बल वर्ग के लोगों को निःशुल्क कानूनी सहायता उपलब्ध कराना तथा सुलह समझौते के आधार पर उन्हें न्याय दिलाना जिला विधिक सेवा प्राधिकरण का उद्देश्य है।

उन्होंने कहा कि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण में मध्यस्तता केन्द्र स्थापित है, जहां पर सुलह समझौते के आधार पर मुकदमों का निस्तारण होता है। उन्होंने कहा कि गरीब व निर्बल वर्ग का व्यक्ति जो आर्थिक विपन्नता के कारण अपने मुकदमों के लिये अधिवक्ता की सहायता नहीं ले पाता उसे जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा अधिवक्ता की निःशुल्क सहायता का प्राविधान है। श्रीमती शुक्ला ने आयोजन की सराहना करते हुये उपस्थित जनसमुदाय का आवाहन् किया कि वे इस आयोजन का भरपूर लाभ उठायें।

समारोह में सचिव सपना शुक्ला तथा कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे जिला विकास अधिकारी डॉ. डी.आर. विश्वकर्मा ने प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों को स्वीकृत पत्र प्रदान किया।

समारोह के अध्यक्ष / जिला विकास अधिकारी डॉ.डी.आर. विश्वकर्मा ने फीता काटकर अन्त्योदय मेला एवं प्रदर्शनी का शुभारम्भ किया तथा सूचना विभाग सहित विभिन्न विभागों – स्वास्थ्य, ग्राम्य विकास, पंचायतीराज, समाज कल्याण, बेसिक शिक्षा, बाल विकास, कृषि, उद्यान, गन्ना, श्रम, पशुपालन आदि विभागों द्वारा लगाये गये प्रदर्शनी स्टालों का अवलोकन किया एवं आयोजन की सराहना की। जिला विकास अधिकारी इस अवसर पर आयोजित समारोह को सम्बोधित करते हुये कहा कि अद्वितीय व्यक्तित्व के धनी तथा एकात्ममानववाद के प्रणेता पं.दीनदयाल उपाध्याय जी के आदर्शों से हमें प्रेरणा लेनी चाहिये। उन्होंने बताया कि पंडित जी का जीवन काफी कठिनाईयों में बीता।

उनका सपना था कि अन्त्योदय के विकास के बिना राष्ट्र का विकास सम्भव नहीं है। हर हुनर को काम तथा हर हाथ को काम उनका नारा था। आज वर्तमान सरकार पंडित जी के इस नारे तथा अन्त्योदय के विकास को साकार करने के दृष्टि से ‘सबका साथ सबका विकास‘ का संकल्प लिया है और इस दिशा में अनेक कल्याणकारी योजनायें संचालित की गयी हैं। उन्होंने कहा कि हम पंडित जी के जीवन दर्शन से प्रेरणा लेकर ऐसा कार्य करें, जिससे हम वृक्षों व पत्थरों से अलग जाने जाय।

इस अवसर पर जिला समाज कल्याण अधिकारी आर.सी.दूबे ने समाज कल्याण विभाग की योजनाओं के बारे में लोगों को जानकारी दी तथा तहसीलदार लम्भुआ संजीव कुमार ने राजस्व विभाग से सम्बन्धित योजनाओं के बारे में जानकारी दी। समाजसेवी सत्यनाथ पाठक ने पं.दीनदयाल उपाध्याय के जीवन पर प्रकाश डाला। प्रारम्भ में जिला सूचना अधिकारी /कार्यक्रम के संयोजक आर.बी.सिंह ने सभी अतिथियों का स्वागत करते हुये पं.दीनदयाल उपाध्याय जी के व्यक्तित्व व कृतित्व पर प्रकाश डाला तथा आयोजन के उद्देश्यों के बारे में जानकारी दी। खण्ड विकास अधिकारी अमित त्रिपाठी ने कार्यक्रम का संचालन एवं धन्यबाद ज्ञापित किया। उन्हांने इस अवसर पर ग्राम्य विकास द्वारा संचालित विकास योजनाओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

इस अवसर पर सूचना विभाग द्वारा पंजीकृत सांस्कृतिक दल श्रीमंत पूर्वांचल लोक गीत कला केन्द्र द्वारा स्वागत गीत व सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया।

रिपोर्ट- संतोष कुमार यादव 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here