मंदिर न्यास समिति की लापरवाही से आज भी हो रही है खंडित बर्तनों से बाबा की पूजा

0
212

 जरमुणडी (ब्यूरो)-  फौजदारी बाबा बासुकीनाथ जिनके पास करोड़ों की संपत्ति है उनके दरबार में न सोना की कमी है न चांदी कि इसके बावजूद भी उनके कई चांदी के बर्तन खंडित है जिसको बदलना अति आवश्यक है | बताते चलें कि अपनी भारतीय परंपरा में खंडित बर्तन का उपयोग करना अशुभ माना जाता है |

कई विद्वानों ने इस पर टिप्पणी भी व्यक्त की है विद्वानों के मतानुसार खंडित बर्तन को पूजा में इस्तेमाल कराने वाले अथवा करने वाले दोनों ही व्यक्तियों को रोग-शोक क्लेश व निर्धनता की प्राप्ति होती है जिस तरह हिंदू धर्म में खंडित मूर्ति की पूजा फलदाई नहीं होता है ठीक उसी तरह खंडित बर्तन मैं पूजा करने से अशुभ फल का परिणाम सामने आता है

ग्रामीणों ने कई बार फूटे बर्तनों को बदलने की मांग की थी लेकिन मंदिर प्रशासन की उपेक्षा के कारण बाबा बासुकीनाथ का पूजन सामग्री टूटे फूटे बर्तन में किया जा रहा है ध्यान रहे कि महाशिवरात्रि के अवसर पर मंदिर प्रभारी सह  प्रखंड विकास पदाधिकारी संजय दास, अपने परिवार के साथ यजमान की भूमिका में शास्त्रोक्त रीति से पूजा पाठ के कार्यों को किया था

इसके अलावा पिछले सप्ताह प्रांत की समाज कल्याण मंत्री लुईस मरांडी के श्रृंगारी पूजा के अवसर पर भी खंडित बर्तनों में ही भोग लगाया गया था|यह अत्यंत ही शर्मनाक बात है कि बेशुमार संपत्ति के मालिक बाबा बासुकीनाथ की पूजा व्यवस्था के लिए कौन जिम्मेदार है जिसके कारण रोज खंडित बर्तनों से पूजन कार्य किया जाता है |

रिपोर्ट- धनंजय सिंह 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here