ग्राम पंचायत व मजरों के शौचालयों में लगी दीमक

0
145

चकलवंशी,उन्नाव (ब्यूरो)- उत्तर प्रदेश के पूर्व सरकार में बने शौचालयों में वीडीओ व मंत्री तथा प्रधान की मिलीभगत से लाखों रुपये का गबन किया गया है लगभग 2015-2016 में शौचालय के नाम पर गरीब जनता से धन की उगाही की गयी ग्रामीणों का कहना है कि सरकार का बदलाव तो हो गया परंतु अधिकारी वहीं है ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी से जांच कराने की मांग की है|

आदेशों की खुले जनपद के आलाधिकारी धज्जियां उड़ा रहे हैं विकास खंड अधिकारी को जानकारी नहीं है कि उनके क्षेत्रों में शौचालय कितने बने हुए हैं न तो ग्राम विकास अधिकारियों के मोबाइल नंबर भी उपलब्ध नहीं है|

जनता किस तरह विश्वास करे कि यहां विकास हो पायेगा जब इस तरह के अधिकारियों की तैनाती रहेगी अब यह देखना है कि नई सरकार का गठन हो गया इन अधिकारियों पर मुख्यमंत्री का आदेश बेअसर दिखाई दे रहा है।

विकास खंड सिकंदरपुर सरोसी क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम पंचायत बंदा खेङा के मजरा धौकल खेङा,राम सिंह खेङा,गौरी,पुरानी बाजार,बरबटपुर,धत्ता खेङा,शंकर खेङा,गुलाब खेङा,जंगली खेङा आदि है जहां पर मुख्यमंत्री के अदेशों की खुलेआम जनपद के आलाधिकारी धज्जियां उड़ा रहे है |

एक तरफ योगी सरकार आदेशित कर रही है किसी भी क्षेत्रों में कोई समस्या नहीं आनी चाहिए उसके बाद भी अधिकारी इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं पूर्ण शौचालय न होने के कारण गांवों की जनता का कहना है कि हमारी मजबूरी है कि शौच क्रिया करने के लिये खेतों में जाना पड़ता है  ग्रामीणों का कहना है कि हमारे गांवों में लगभग 2015-2016 में शौचालयों का निर्माण हुआ था गांवों में बने शौचाय के नाम पर खेल खेला गया है कार्य किया गया है |

ग्रामीणों का कहना है कि अधिकारियों व प्रधान की मिलीभगत से शौचालय में लाखों रुपये का बंदर-बांट हुआ है।गांव के लोगों ने कहा है कि हमें पूरी तरह से विश्वास है कि योगी सरकार में भष्टाचार करने वाले अधिकारियों पर कार्यवाही जरूर की जायेगी इस ग्राम पंचायत में लगभग कई दर्जनों शौचालयों ध्वस्त पङे हुये है जिस पर जनपद के आलाधिकारी बिलकुल ध्यान नहीं दे रहे हैं|

गंगा सागर के दरवाजे के पास शौचालय बना  हुआ है जिसमें ईंट दिख रही दरवाजे व पल्ले लगे नहीं है जो कई वर्षों से लगभग शौचालय बनवाये गये थे उन शौचालयों की शिकायत प्रधान व मंत्री से कई बार उसके बाद भी कोई सुनवाई नहीं हो रही है यह भी शौचालय खराब पङा है शहीद के मकान के पास ध्वस्त शौचालय  देखने को मिल रहे है इनके शौचालय में उपले रखे हुए।

निवासी वहां के लोगों के लिए शौच के लिये बाहर खेतों में जाना पड़ता हैं जयराम का बना हुआ शौचालयों में लकड़ी रखे हुए है मुन्नी लाल के शौचालय में लगा दरवाजा तथा पल्ले कुछ बया कर रहे हैं सोनू सिंह का बना हुआ शौचालय इनका कहना है कि बना तो है परन्तु न तो सीट है न तो टैंक हैं इसी तरह लगभग पूरी ग्राम पंचायत में एक दर्जन से अधिक शौचालय ध्वस्त पङे हुए हैं जिस ओर न तो अधिकारी ध्यान दे रहे है न तो क्षेत्र के विधायक ध्यान दे रहे है वहां के ग्रामीणों ने कहा है कि जब चुनाव चल रहा था तब बङे-बङे वादे किये जा रहे थे

अब हमे शौच क्रिया के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है क्षेत्र के ग्रामीणों से मिली जानकारी के अनुसार ग्राम पंचायत में ग्राम पंचायत अधिकारी सुरेन्द्र कुशवाहा कभी आते ही नहीं है इस संबंध में प्रधान अनिल मिश्रा से बात की आपके ग्राम पंचायत में शौचालय कितने बने हुए हैं और कितने ध्वस्त पङे हुये हैं तो बताया कि इसकी जानकारी मंत्री के पास है जब मंत्री का मोबाइल नंबर की जानकारी की तो फोन कट कर दिया सबसे बड़ी बात है|

कि विकास खंड के सक्षम अधिकारी वीडीओ राजीव कुमार सिंह से बात की गई तो उन्होंने कहा एक बार कहा आफिस में है फिर कहा कि हम आफिस में नहीं है हमारे विकास खंड में 55 गांव है हम कहा-कहा की जानकारी रखे उसके बाद मंत्री का मोबाइल नंबर की जानकारी करने का प्रयास किया तो वीडीओ ने फोन काट दिया जब पत्रकार का फोन काट दिया तो क्षेत्रों के पीड़ितों से किस तरह बात की जाती होगी|

यह क्षेत्र की जनता ही जानती है ग्रामीणों का कहना है कि हमारे गांव में शौचालयों की समस्या बनी हुई है इस संबंध में जिलाधिकारी से गुहार लगाई है कि जांच करवाकर कार्यवाही की मांग की है।यदि कार्यवाही नहीं हुई तो हम समस्त गांव के लोग मुख्यमंत्री को अवगत करायेंगे। इसी तरह चलता रहा तो पूर्व सरकार व नई सरकार में अंतर क्या रहा ग्रामीणों ने कहा कि अब यह देखना है कि पूर्व सरकार की तरह चलेगा कि कोई बदलाव होगा यह आने वाला समय ही बताएगा।

रिपोर्ट-जीतेन्द्र गौड़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here