थाना अध्यक्ष संपूर्णानंद राय के गुड वर्क की गाजीपुर जिले में दो जोरदार चर्चा

0
927

गाजीपुर (ब्यूरो)- निष्ठा और ईमानदारी से पुलिस अगर चाहे तो पीड़ित व्यक्ति को इंसाफ मिलने में देर नहीं लगती, गाजीपुर पुलिस के गुड वर्क की कड़ी में दस वर्षो से न्‍याय के लिए भटक रही विधवा को गाजीपुर पुलिस ने इंसाफ दिलाने के लिए एड़ी से चोटी तक का जोर लगा दिया।

करोड़ों की सम्‍पत्ति को हड़पने के लिए षडयंत्र रचने वाला फर्जी बेटे को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। जिला एवं सत्र न्‍यायालय ने फर्जी बेटा बन नौकर का जमानत रद्द कर दिया है। इस षडयंत्र में शामिल अन्‍य साजिशकर्ताओं के खिलाफ पुलिस जांच कर रही है कि जिनके कुकृत्‍यों से 10-15 साल से विधवा व उसकी तीन लड़कियां अपने ही सम्‍पत्ति के लिए दर-बदर ठोकर खा रही थीं।

इस संदर्भ में नगसर थानाध्‍यक्ष सम्‍पूर्णानंद राय ने बताया कि असाव ग्राम निवासी रामाधार राय 1980 में सहदेव मोहली नाम के व्‍यक्ति को अपने घर पर खेती-बारी में सहयोग करने के लिए नौकर रख लिया था। रामाधार राय की मृ‍त्‍यु सन् 2002 में हो गयी। रामाधार राय की मृत्‍यु के बाद उनके विरोधियों ने नौकर सहदेव मोहली को साजिश में लेकर फर्जी कागजात बनवाकर उसको स्‍व. राय का बेटा घोषित करा दिया। इस खबर से विधवा मेवाती राय पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा।

वह न्‍याय के लिए वर्षो तक नेताओं, कोर्ट-कचहरी और जगह-जगह फरियाद लेकर दर-बदर फटकती रहीं। लेकिन नतीजा शून्‍य निकला। योगी सरकार आने के बाद विधवा मेवाती देवी ने नगसर एसओ सम्‍पूर्णानंद राय के यहां न्‍याय की गुहार लगायी। नगसर थानाध्‍यक्ष. ने मामले को गंभीरता से लिया। इस मामले की तह तक जाने के लिए नौकर सहदेव मोहली के पैतृक गांव नकटी झारखंड में पहुंचे। वहां पर पता चला कि सहदेव झगडू़ मोहली का पुत्र है। इसके तीन और बड़े भाई हैं। छानबीन के बाद एसओ ने सहदेव मोहली के खिलाफ फर्जी कागजात बनाकर 420 करके करोड़ों की सम्‍पत्ति हड़पने के आरोप में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। पुलिस के इस गुड वर्क की जिले में जोरदार चर्चा है |

रिपोर्ट- डॉक्टर विजय प्रकाश यादव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here