विभाग की मनमानी से त्रस्त उपभोक्ता, मीटर लगने के बाद भी उसे खराब दिखाकर भेज रहा बिल

0
71
प्रतीकात्मक


बछरावाँ(रायबरेली ब्यूरो)-
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा जहाँ गरीबों तक बिजली पहुँचाने पर जोर दिया जा रहा है। वही बिजली विभाग द्वारा उपभोक्ताओं को परेशान करने में कोई कोर कसर छोड़ी नहीं जा रही है। लोगों के अनाप शनाप बिल आ रहे हैं। आलम यह है कि बहुत से उपभोक्ताओं के यहां मीटर लगे है। पहला मीटर अगर जल गया गई तो उसकी जगह दूसरा मीटर भी लगा दिया गया है परंतु विभाग आज भी उनके बिलों को खराब मीटर दिखाकर अनाप शनाप बिल भेज रहा है जबकि मेयर पूरी तरह चल रहे है।

टेराबरौला निवासी सरोज कुमार साहू ने बताया कि उनका बिल हमेशा 400 रूपये के अंदर आता था। इस बार 3 माह में 2877 इसी गांव के निवासी मृतक रामनारायण शाहू के परिजनों ने बताया कि वर्ष 2015 में उनका बिल 3977 रूपये था लेकिन 2016 में 20234 रूपये हो गया। कस्बा निवासी मोहन गुप्ता ने बताया कि उनके यह का बिल 2 माह में 615 से 650 रूपये तक आता था। मौजूद समय में 2 महीने का बिल 6740 रूपये का रहा है। यह तो महज बानगी भर है। अगर ईमानदारी से जांच कराई जाए और मीटर रीडिंग के आधार पर बिल को संशोधित करने के लिए कैम्प लगाया जाये तो हजारों लोग इस दस के शिकार मिलेंगे।

उपभोक्ताओं का कहना है कि जबसे बिल बनाने व वसूली का कार्य प्राइवेट सेक्टर को दे दिया गया है। तब से उपभोक्ताओं की जेब पर सीधे सीधे डाका डाला है रहा है। उपभोक्ताओं ने स्पेसल कैंप लगाकर इस तरह के गड़बड़ी वाले बिलों को मीटर रीडिंग का आधार मानकर संशोधित कराने के बाद ही बिजली बिल की वसूली करायी जाये।

रिपोर्ट- जयसिंह पटेल
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here