1 लाख साल पहले हुई ये घटना दोबारा होने वाली है, अगर नहीं संभले तो यह होगा मानवजाति पर अबतक का सबसे बड़ा खतरा

1
4149

antarctic

कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी के पोलर ओसेन फिजिक्स ग्रुप के प्रमुख प्रोफ़ेसर और वैज्ञानिक पीटर वडहम्स ने कहा कि 1 लाख 20 हज़ार साल बाद यह दोबारा होने वाला है, नेशनल स्नो एंड आइस data सेंटर से मिली सैटलाइट तस्वीरों से पता चलता है कि पिछले 30 सालों में यहाँ 12.7 मिलियन स्क्वायर किलोमीटर एरिया में फैली बर्फ घटकर सिर्फ 11.1 मिलियन किलोमीटर में ही बची है | 1.5 स्क्वायर किलोमीटर एरिया जिसकी बर्फ गायब हो गयी है यह इलाका 6 यूनाइटेड किंगडम के एरिया के बराबर है |
वैज्ञानिक ने दावा किया है कि अगले एक साल में यहाँ मौजूद साड़ी बर्फ गायब हो सकती है अगर यह पूरी तरह से गायब नहीं हुई तो इसमें रिकॉर्ड कमी आ सकती है | अगर यह बर्फ पूरी तरह से गल जाती है तो मौसम में कई आकस्मिक बदलाव होंगे ग्लोबल वार्मिंग कि स्थिति बद से बदतर हो जाएगी इसका असर अभी से अमेरिका और ब्रिटेन में देखा जा सकता है झा बेमौसम तूफ़ान और बाढ़ आ रहे हैं |

आर्कटिक क्षेत्र में आर्कटिक महासागर, कनाडा का कुछ हिस्सा, ग्रीनलैंड, रूस का कुछ हिस्सा, संयुक्त राज्य अमेरिका (अलास्का), आइसलैंड, नॉर्वे, स्वीडन और फिनलैंड शामिल हैं |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here