श्रीकृष्ण जन्म, कृष्ण-लीला तथा गिरिराज पूजन की कथा ग्राम उदोतपुरा में आयोजित

0
89

जालौन(ब्यूरो)– ‘नंद घर आनंद भयो, जय कन्हैया लाल की’ के जयकारे के साथ श्रीकृष्ण जन्म, कृष्ण-लीला तथा गिरिराज पूजन की कथा ग्राम उदोतपुरा में आयोजित साप्ताहिक श्रीमद भागवत कथा ज्ञान यज्ञ के पांचवें दिन सरस कथा वाचक ने उपस्थित भक्तजनों के समक्ष कही। तहसील क्षेत्र के ग्राम उदोतपुरा में साप्ताहिक श्रीमद भागवत कथा के पांचवें दिन भगवताचार्य ने उपस्थित भक्तजनों के समक्ष श्रीकृष्ण-जन्म एवं कृष्ण-लीला का विस्तृत वर्णन किया। जिसमें उन्होंने बताया कि श्रीकृष्ण का मथुरा की जेल में प्राकट्य होने के बाद वासुदेव ने रातों-रात उन्हेें गोकुल में नंद बाबा के यहां पहुंचा दिया। और उनके यहां जन्मी पुत्री को देवकी की गोद में दे दिया। उधर गोकुल में जैसे ही सुबह सभी जागे तो नंदबाबा के यहां लाला का जन्म होने की बात पता चलेत ही पूरा गोकुल जश्न मनाने लगा।

सभी ब्रजवासी नाचते झूमते हुए ‘नन्द घर आनन्द भयो, जय कन्हैया लाल की’ गाते हुए मस्त हो रहे थे। इसके बाद कथा-व्यास द्वारा श्रीकृष्ण की लीलाओं का वर्णन किया गया। जिसमें गिरिराज जी महाराज के पूजन की कथा का श्रवण कराया गया। इंद्र के नाराज होने पर श्रीकृष्ण ने अपनी अंगुली पर गिरिराज पर्वत को उठाकर न सिर्फ इंद्र का अभिमान चूर-चूर किया था बल्कि पूरे गोकुल के पशु-पक्षी एवं नर-नारियों को उसके नीचे खड़ा कर उनकी जान की रक्षा की थी। तब सभी गोकुलवासियों से इंद्र की पूजा की बजाय गिरिराज जी महाराज की पूजा कर इंद्र का मान-मर्दन किया। इस दौरान बीच-बीच में संगीतमय भजनों की प्रस्तुति से बैठे श्रोतागण झूम कर भक्तिभाव से नृत्य भी कर रहे थे। इस मौके पारीक्षित शिवपाल सिंह राजावत के अलावा गजेंद्र सिंह चैहान, सुखदेव सिंह राजावत, रणजीत सिंह, इंद्रपाल सिंह, जालिम सिंह, रमेशचंद्र श्रीवास्तव, प्रहलाद सिंह राजावत, बलवीर सिंह राजावत, दीपू, विंदपाल सिंह सेंगर, शिवराज सिंह, मदन सिंह आदि सहित सैंकड़ों की संख्या में भक्तों ने भाग लिया।

रिपोर्ट-अनुराग श्रीवास्तव
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY