कंपनी बदलती है बार-बार अपना नाम-लोगों को ठगने का नया तरीका: पुलिस ने मारा छापा करोड़ों की हेराफेरी

0
109


ललितपुर(जालौन ब्यूरो)
– पहले एडवांटेज फिर ऑप्शन वन और अब एलयूसी – एल यू सी नाम कि चिटफंड कम्पनी पर पुलिस का छापा तुवन चौराहे पर स्थित यह कम्पनी कई बार बदल चुकी है| अपना नाम जिले के हजारों लोगों को प्रलोभन देकर उनका करोड़ो रूपये जमाकरा चुकी है| कम्पनी जिले के कई प्रतिनिधि जिला प्रशासन से कर चुके है|

कम्पनी के फर्जी वाड़े की शिकायत ललितपुर- ऑप्शन वन, एडवांटेज, एलयूसी चिटफंड नाम कि एक कम्पनी के मुख्य कार्यालय पर शनिवार को ललितपुर पुलिस ने छापेमारी करते हुये कम्पनी के दस्तावेजों की जांच की। पुलिस कि पड़ताल में कम्पनी के कर्मचारियों के पास मौके से किसी भी प्रकार के कोई दस्तावेज नही मिले है। मौके पर मौजूद सीओ सदर हिमांशु गौरव ने कम्पनी के कर्मचारियों को संम्बधित दस्तावेज दिखाने पेश करने के दिये एक दिन का समय दिया है। विगत कई बर्षो से तुवन चौराहे पर स्थित एक काम्पलेक्स में एक चिटफंड कम्पनी का ऑफिस खुला हुआ है, जहां लोगों से उनके रूपये को डबल करने जैसी तमाम योजनाओं से लोगों को प्रलोभन देकर उनका पैसा अपने कम्पनी में जमा कराने को कार्य किया जाता है।

कप्पनी के संचालक पर आरोप है उसने एक अपनी एक समिति बनाकर उसे चिटफंड कम्पनी का नाम दिया, जिसमें शहर के भोलेभाले लोगों को तमाम प्रकार के झांसे देकर लोगों को फसाया और उनका करोड़ो रूपये दुगना करने के नाम पर जमा करा लिया लेकिन जब पैसे देने का समय आया तो कम्पनी ने लोगों कि मूल रकम भी नही लौटाई। ऐसे ही कई गम्भीर अरोप कम्पनी सहित संचालक लगाये गये है, जिसकी कई लोगों द्वारा समय-समय पर जिला प्रशासन से लेकर पुलिस प्रशासन तक इसकी शिकायत की गयी। आरोप है कि प्रशासन द्वारा कोई कारगर कदम नही उठाने से कम्पनी का संचालक करोड़ो रूप्ये लेकर दुसरे राज्यों तक में ऐसे ही फर्जी वाड़े कर लोगों से ठगी करने का कार्य कर रहा है। कई बार बदला नाम-कुछ बर्षो पहले रवि तिवारी नाम के एक व्यक्ति ने एडवांटेज नाम से एक कम्पनी बनाई और उसका एक कार्यालय तुवन चौराहे पर स्थित एक कॉम्पलेक्स में खोल लिया, जहां कम्पनी के कम्पनी के संचालक ने जिले में अपने कई ऐजेण्ट बनाये और उनकी मदद से जिले भर के भोले भाले लोगों को तीन वर्ष में पैसा डबल करने का प्रलोभन दिया| करोड़ो रूपये अपनी कम्पनी में जमा करा लिया। जब तीन साल बाद लोगों का पैसा बापिस करने का समय आया तो कम्पनी ने अपना नाम बदलकर ऑप्सन वन रख दिया ।

आरोप है कि जब पैसा देने का समय आया तो कम्पनी के संचालक ने लोगों को दुगने रूपय के बजाय उनकी मूल रकम भी नही लौटाई । इसी प्रकार ऑप्सनवन के बाद अब कम्पनी ने फिर अपना नाम एलयूसी कर दिया है। आरोप है कि कम्पनी के संचालक लगातार कई वर्षो से लोगों को प्रलोभन देकर उनकी मेहनत की गाढ़ी कमाई हड़पने में लगा है लेकिन जिला प्रशासन की ऐसी फर्जी चिटफंड कम्पनियों में दिलचस्पी न होने के कारण लोग लगाता ठगी का शिकार हो रहे है।

क्या अब होगी कार्यवाही- शनिवार को पुलिस के आलाअधिकारियों ने पूरी पुलिस फोर्स के साथ तुवन चौराहे पर स्थित आप्शन वन, एडवांटेज (पुराने नाम )और अब एलयूसी के मुख्य कार्यालय पर छापामारी कि है जहां पुलिस के हाथ एक भी दजस्तावेज नही मिले । छापामारी के दौरान सदर सीओ हिमांशु गौरव, सदर कोतवाल अजयपाल सिंह भी मौजूद रहे। लेकिन पुलिस कि इस छापामारी कार्यवाही से शहर के लोगों में चर्चा है कि क्या अब इस फर्जी कम्पनी पर कोई कार्यवाही होगी या नही । लोगों का कहना है कि पहले भी इस कम्पनी के संचालक पर प्रशासन ने कार्यवाही करने हिम्मत तो दिखाई लेकिन लेन देन करने में माहिर कम्पनी के संचालक ने अधिकारियों से क्या सौदा किया कि वह बार-बार बच के निकल गया । हांलाकि शहर वाशियों ने ललितपुर के पुलिस अधीक्षक डी. प्रदीप कुमार पर भरोसा जताया है और कहा कि इस बार कम्पनी का संचालक बच नही पायेगा। और लोगों के साथ हो रहे फर्जी वाड़े और ठगी पर रोक लग सकेगी ।

रिपोर्ट- अनुराग श्रीवास्तव
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here