सभी प्रसव संस्थागत कराये जाये, प्रसव के पश्चात प्रसूता को 48 घण्टे रोका जाये: जिलाधिकारी

0
51

मैनपुरी(ब्यूरो)- एम.सी.टी.एस पोर्टल पर गर्भवती महिलाओ, बच्चों की फीडिंग में सुधार लाया जाये, आशा, एएनएम, आंगनवाड़ी के मानदेय का समय से भुगतान सुनिश्चित किया जाये, सभी एमओआईसी अपने अपने क्षेत्र की प्रसुताओ की जानकारी करें। मुख्य चिकित्साधिकारी जिला कार्यक्रम अधिकारी आपस में समन्वय कर बाल स्वास्थ्य का प्लान तैयार करें, मदर , चाइल्ड ट्रेकिंग सिस्टम में सुधार लाया जाये, परिवार नियोजन हेतु एमओआईसी प्लान बनाकर मुख्य चिकित्साधिकारी को उपलब्ध कराये, ज्यादा से ज्यादा संस्थागत प्रसव कराये जाये।

उक्त निर्देश जिलाधिकारी यशवन्त राव ने जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक की समीक्षा के दौरान दिये। उन्होने जननी सुरक्षा येाजना की प्रगति की समीक्षा करने पर कुचैला, कहरल, बेवर की खराब प्रगति पाये जाने पर असन्तोष व्यक्त करते हुए सुधार लाने के निर्देश दिये| उन्होने उपस्थित सभी एमओआईसी को निर्देशित किया सभी कार्य समय से पूर्ण हो सकेगें, प्रसूताओ को 102 एम्बुलेन्स मे माध्यम से बैकड्राप की सुविधा उपलब्ध करायी जाये। उन्होने कहा कि सभी प्रसव संस्थागत कराये जाये, प्रसव के पश्चात प्रसूता को 48 घण्टे रोका जाये और उसे निःशुल्क भेाजन उपलब्ध कराया जाये यदि प्रसूता को निर्धारित अविध से पूर्व डिस्चार्ज किया गया तो एमओआइसी जिम्मेदार होगें, साफ सफाई हेतु उपलब्ध कराये गये अनटाइल्ड को व्यय किया जाये, चिकित्सक अपने दायित्वो के प्रति गभ्भीर रहें और लोगो की निस्वार्थ भाव से सेवा करें।

श्री राव ने गर्भवती महिलाओ के टीकाकरण के वार्षिक लक्ष्य 61878 के 8799 क्रमिक उपलब्धि पाये जाने पर इसमें निर्धारित लक्ष्यो को पूर्ण करने, राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम की समीक्षा मे पाया कि वार्षिक लक्ष्य 5554 के सापेक्ष अभी तक 810 की क्रमिम उपलब्धि पाई गयी। मदर एण्ड चाइल्ड ट्रैकिंग सिस्टम कार्यक्रम की समीक्षा में पाया कि 53554 बच्चो के वार्षिक लक्ष्य के सापेक्ष 4714 बच्चो, 61878 गर्भवती महिलाओ के वार्षिक लक्ष्य के सापेक्ष 9406 की ही एम.सी.टी.एस. पोर्टल पर फीडिंग की गयी है जो अत्यन्त निराशाजनक है, परिवार नियोजन कार्यक्रम में महिला, पुरूष नसबन्दी की प्रगति काफी खराब पाये जाने पर असन्तोष व्यक्त करते हुए इसमें सुधार लाने के निर्देश दिये| उन्होने कहा कि प्र. चिकित्साधिकारी सुनिश्चित करे कि शासन द्वारा जन सामान्य को स्वास्थ्य संबंधी सभी सुविधाएं चिकित्सालय में आसानी से मिले, सभी लक्षित बच्चो का नियमित स्वास्थ्य परीक्षण हो, उन्हें समय से सभी टीके लगाये जाये। एएनएम आशा क्षेत्र में सक्रिय रहकर लोगो को स्वास्थ्य सेवायें प्रदान करें। उन्होनेे, अन्धता निवारण, बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम आदि की बिन्दुवार गहन समीक्षा की। मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 शरद कुमार वर्मा, सीएमएस महिला हरिदत्त नेमी, परियोजना निदेशक के.के.वैश्य, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी रामकिशन, डा. राजीव राय, जिला क्षय रोग अधिकारी डा. सी.एम यादव, संजीव वर्मा डीपीएम, डीपीओ, साहब यादव सहित प्रभारी चिकित्साधिकारी आदि उपस्थिति रहे।

रिपोर्ट- दीपक शर्मा 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY