युवती का अपहरण बना पहेली, दूसरे दिन भी वादी बनकर कोई नहीं पहुँचा थाने

0
162

देल्हूपुर/प्रतापगढ़(ब्यूरो)- मांधाता छेत्र के गजेह्डा जंगल से विगत गुरुवार को एक महिला के साथ खड़ी युवती को बोलैरो सवार युवकों द्वारा अगुवा किये जाने का सनसनी खेज मामला प्रकाश में आया था । जिसमे इलाहाबाद की तरफ़ से आ रहे बाइक सवार दो युवकों से वहाँ खड़ी महिला ने मदद की गुहार लगाई तो उन युवकों ने बोलैरो से भाग रहे अपहरणकर्ताओं का पीछा किया था ।पनियारी गाँव के पास बाइक अनियंत्रित हो कर पलट गई थी, जिसमे अबू शाद निवासी चकिया इलाहाबाद को गम्भीर चोटें आ गई थीं जबकी उसके साथी नवाबगंज इलाहाबाद निवासी कैफ को हल्की चोटें आई थीं ।

सूचना पर पहुँची देल्हूपुर व मांधाता पुलिस गम्भीर रूप से घायल अबू शाद को मौके पर तड़पता छोड़ कैफ को खींच कर मुलजिमों की तरह जीप पर बैठाया और मौकाए वारदात पर लाई और खाना पूर्ति करके घंटों बाद फिर लौट कर वहाँ पहुँची जहाँ अबूसाद चोटों से कराह रहा था और लोगों भीड़ इकट्ठा थी ।

पुलिस ने कराहते युवक के साथ बेरहमी से पेश आते हुए जब उसे भी जीप में खींच कर बैठाया और घायल युवक को जीप के अन्दर ही उल्टी होने लगी तो लोगों का गुस्सा फूट पड़ा और लोगों ने पुलिस के इस घिनौने कृत्य का विरोध किया तो दूसरे साधन से उसे उपचार के लिये जिलाचिकित्सालय भेजवाया जबकि कैफ को पूरी रात थाने पर बैठाये रखा| सुबह अबूसाद जिला चिकित्सालय से डिस्चार्ज होकर आया तो उसे भी थाने में रोके रखे| दोपहर बाद दोनो को रेहा किया गया । अब सवाल यह उठता है की किसी के मदद करने की सजा यदि पुलिस के निगाह में इतना बड़ा अपराध है तो किसी पीडित की मदद कोई कैसे करेगा ।

उधर युवती के अपहरण की बात देखी जाय तो इन युवकों और वहाँ मौजूद लोगों के मुताबिक बोलैरो सवार लोगों ने युवती का अपहरण किया और उसे लेकर भागे इस बात के सैकड़ो लोग गवाह हैं किन्तु एसओ के मुताबिक न तो साथ रही महिला का कहीं पता चला और न ही अभी तक कोई व्यक्ति वादी बनकर रिपोर्ट लिखाने थाने आया| ऐसे में यह घटना पहेली बन कर रह गई है ।पुलिस भी दो दिन बीत गये लेकिन अभी तक किसी ठोस नतीजे पर नहीं पहुँच सकी है । बहरहाल मामला कुछ भी हो छेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है|

रिपोर्ट- अवनीश कुमार मिश्रा 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here