सई नदी में कूड़े का भरमार सरकार का आदेश हुआ तार-तार

0
104

प्रतापगढ़(ब्युरो)- शहर के गंदे नाले का पानी इस समय सूखे सई नदी में गिर रहा है। सूख चुकी नदी में पानी तो रहा नहीं वही ऊपर से शहर का गिरता प्रदूषित गंदा मलबा सरकार की नदी की स्वच्छता अभियान को मानो चिढ़ा रहा है।

करोड़ो खर्च करने के बाद भी प्रतापगढ़ की गंगा कही जाने वाली सईं नदी की बद से बदतर हो रही सेहत में कोई सुधार नजर नहीं आ रहा है|

करोड़ो लोगो की आस्था से जुड़ा बेल्हा देवी का पावन धाम भी कूड़े के ढेर पर ही नजर आता है। यू तो केंद्र सरकार नदियों के प्रति अपनी संजीदगी विज्ञापनों और घोषणाओं में खूब दिखाती हुई नजर आती है लेकिन बेल्हा में यह सई नदी का जारी बदस्तूर जारी बदहाल स्थिति किसी से छिपी नहीं है।

दूर-दराज से पहुचे माँ बेल्हा के दर्शनार्थी और श्रद्धालु मंदिर परिसर तक जाने में अपनी नाक बंद कर के जाने पर मजबूर है। सई नदी के पुल पर खड़े होने पर एक सामान्य आम आदमी को नदी में जारी अवैध खनन स्पस्ट दिखाई देता है लेकिन आश्चर्य की बात है की प्रशासन को सूचना देने के बावजूद भी उसे अवैध खनन नजर नहीं दिखाई दे रहा है।

प्रदेश में योगीराज सरकार के गठन के पहले जहा उसके घोषणापत्र में नदियों के प्रति गंभीरता का रंग चटक नजर आ रहा था वही अब सरकार के गठन के बाद उसका रंग फीका दिखाई दे रहा है। देखना यह होगा की सरकार की नजर कब इस बदहाल नदी की दुर्दशा दिखाई देती है।

रिपोर्ट-सूरज वर्मा

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY