मुसलमान ख़ुद मान जाएँ नहीं तो तीन तलाक़ के ख़िलाफ़ क़ानून लाएगी सरकार: वेंकेया नायडू

0
181

अमरावती: तीन तलाक़ का मामला आज कल काफ़ी ज़ोर शोर से मीडिया में छाया हुआ है। हरेक नेता और सिलेब्रिटी इस बार बात करने से नहीं चूकते है। ऐसे ही एक सभा को सम्बोधित करते हुए मोदी सरकार के केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री वेंकेया नायडू ने कहा कि यदि समय रहते मुस्लिम समाज तीन तलाक़ की प्रथा को बदलने में असफल रहता है तो सरकार इसे प्रतिबंधित करने के लिए कोई क़ानून ला सरकती है। मंत्रीजी ने आगे कहा कि मुद्दे को दिखाना समाज पर निर्भर करता है और अच्छा होगा अगर स्वयं मुस्लिम समय इस प्रथा को बदल ले नहीं तो ऐसी स्थिति आ सजती है कि सरकार को नया कानून लाना पड़ सकता है।

अपने सम्बोधन में वेंकेया नायडू यहीं चुप नहीं रहे बल्कि उन्होंने आगे कहा कि ऐसा करना किसी के निजी मामले में दख़ल देना नहीं बल्कि महिलाओं के लिए न्याय का प्रश्न है। क़ानून के सामने समानता का मुद्दा है और महिलाओं को समान अधिकार मिलने चाहिये। उन्होंने हिंदू समाज का उदाहरण देते हुए कहा कि हिंदू समाज ने भी बाल विवाह पर चर्चा की और इसे प्रतिबंधित करने का क़ानून पारित किया। ऐसे ही सती प्रथा थी जिसे बंद किया गया । आगे बोलते हुए उन्होंने दहेज प्रथा का भी ज़िक्र किया और कहा कि जब दहेज उन्मूलन का क़ानून लाया गया तो हिंदू समाज ने इसे सहर्ष स्वीकार किया । उन्होंने कहा कि जब जब ऐसा लगा कि कोई प्रथा समाज के लिए नुक़सानदेह है तब उसके उन्मूलन का प्रयास किया गया और लोगों ने उसमें सहभाग किया, कुछ और सुधार करने हैं और उस दिशा में प्रयास जारी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here