भ्रष्टाचार में लिप्त प्रधान पति ने किया गांव का बंटाधार

वाराणसी (ब्यूरो)-  ऐसे कई गांव प्रकाश में आए हैं जिनके विकास कागजों पर दिखा कर सरकार द्वारा आई धनराज का बंदरबांट कर दिया जाता है पिन्ड्रा स्थित ग्राम सभा परसरा जो कि वाराणसी मुख्यालय से लगभग 35 किलोमीटर दूर स्थित है गांव की महिला ग्राम सभा ग्राम प्रधान बिंदु देवी के पति शिवचंद उनके भाई पंकज हारटन इन दिनों क्षेत्र में चर्चा का विषय बने हुए हैं बताया जाता है कि 14वां वित्त व चतुर्थ राज्य वित्त के पैसे को फर्जी तरीके से एक काम को कई बार दिखा कर जमकर लूट-खसोट कर रहे हैं। प्रधान पति के भ्रष्टाचार का आलम यह है कि प्रधानमंत्री आवास हो या शौचालय या गांव के पोखरी का सुंदरीकरण या कच्ची सड़क या प्राथमिक विद्यालय में फर्श की मरम्मत व शौचालय का मरम्मत या हैंडपंप का मरम्मत सबमे फर्जी कागजात के सहारे अधिकारियों की सांठगांठ से इन दिनों खूब लूट-खसोट कर रहा हैं जिसकी उच्चस्तरीय जांच होना जरूरी है।

क्षेत्र पंचायत सदस्य जितेंद्र दुबे ने मीडिया को बताया कि प्रधान पति शिवचंद गांव में लगे खड़ंजे को दोयम ईट से बनवाया है। सीवर लाइन बनाने के लिए गांव में यू यम. पाइप गिरा कर उसका भुगतान ले लिया। और आज तक सीवर लाइन नहीं बना। 5 हैंडपंप रिबोर करवाया है ।हैंडपंप रिबोर में भी स्टीमेट का आधा रुपया खा गया है। ग्राम वासियों का वृद्धावस्था पेंशन, विधवा पेंशन, दिव्यांग पेंशन, दिलवाने व पेंशन फार्म भरवाने के लिए 500 से पन्द़ह सौ की मांग करता है, और लेता भी है, और फिर बाद में पेंशन का फार्म न भरा जाता है, ना पेंशन पास होता है। न पेंशन धारकों से लिया हुआ रूपया वापस देता है ।बल्कि पेंशन धारको को धमकाता व गाली गलौज मारपीट पर अमादा होकर कहता है कि सरकार ने पेंशन पास नही किया तो हम क्या करें। पेंशन के नाम पर लिया हुआ रुपया डकार जाता है कभी किसी को पैसा वापस नहीं किया।

कमीशन के चक्कर में 14वां व चतुर्थ राज्य वित्त का पैसा 3 लाख रुपया बचा हुआ है। जिसे सलटाने और सही कायं योजना न होने के कारण व ग्राम प्रधान इलेक्शन में सेकंड फाइटर रहने वाले राधेश्याम के जागरूकता व गांव वालों के चौकन्ना रहने की वजह से बचा हुआ है व खाते में पड़ा हुआ है । गांव के मिठाई लाल ने बताया कि पंकज हाटंन हमसे आवास के लिए ₹5000 रुपया लिया और आज तक मुझे आवास नहीं दिया।कोई भी उच्च अधिकारी आकर देख ले ,जांच कर ले, आज भी मैं टूटी-फूटी अपने झोपड़ी में रहता हूं।परसरा गांव के दिव्यांग पन्नालाल पुत्र स्वर्गीय राम मुरत जो जाति के चमार हैं ने बताया कि प्रधानमंत्री आवास ग्रामीण बनाने के लिए ग्राम प्रधान के पति शिवचंद्र राम ने मुझसे ₹15000 रुपया लिया ।जिसके कारण मेरा आवास आज भी अधूरा है ।कोई भी अधिकारी आकर जांच कर ले बगल में बंसराज चमार ने भी बताया कि मुझे आवास नहीं मिला।

सूत्रों से ज्ञात हुआ कि पर सरा गांव में ग्राम प्रधान के पति शिवचंद व उनके भाई पंकज हारटन ने आवास बनवाने के नाम पर व आवास देने के लिए प्रति व्यक्तियों से 10000 से ₹15000हजार रूपया प्रति आवास धारकों से वसूली किए हुए हैं। और आवास उनको दिए हुए है साथ ही जिन को आवास नहीं मिला उनको लगातार आश्वासन देते रहते हैं। गरीबों से पैसा अवैध तरीके से वसूल कर शिवचंद वह उनके भाई हारटन सूदी रुपया अबैध तरीको से गांव में व अगल-बगल के गांवों में बांटते हैं व सुदी रुपया का अवैध कारोबार करते हैं।

परसरा गांव के कमलेश स्टांप वेंडर, जितेंद्र दुबे, धर्मेंद्र कुमार, जिया लाल पटेल ,पिंटू ,भैया लाल, संतोष मिश्रा, बसंत,राजनेता ,प्रवीण कुमार मिश्रा इत्यादि लोगों ने बताया कि शिवचरण अपने को बैंक आफ इंडिया का इंपलाई बताता हैं। इसकी भी जांच होनी चाहिए कि बैंक में हैं। कि दलाली का कार्य करता हैं जो कि बैंक के इर्द-गिर्द देखा जा सकता है। सब मिलाकर गांव में अपात्र लोगों को पैसा लेकर आवास दिया गया है ।और पात्र आवास के लिए झक मार रहे हैं यह समझ से परे है। ग्राम सभा के सदस्यों ने बताया कि गांव की कभी खुली बैठक नहीं होती है सारी कार्य योजना प्रधान पति अपने से तैयार करते हैं ग्राम सभा सदस्यों का उस पर फर्जी दस्तखत होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here