बेरहम पति, दहेज़ में बोलेरो न मिलने पर कर दी धर्मपत्नी की हत्या

0
79

सुल्तानपुर (ब्यूरो)- दहेज में बोलेरो न मिलने पर मां व बहन के साथ मिलकर पत्नी की हत्या कर देने के मामले में आरोपी पति को अपर सत्र न्यायाधीश सप्तम अजय कुमार दीक्षित ने उम्रकैद व चार हजार रूपये अर्थदण्ड की सजा सुनाई है।

मामला पीपरपुर थानाक्षेत्र के भागीपुर गांव का है। जहां के रहने वाले कुलदीप सिंह के साथ अभियोगी रीतेश सिंह निवासी खुर्मा कन्हौली जिला देवरिया ने अपनी बहन की शादी 4 दिसम्बर 2008 को सम्पन्न कराई थी। आरोप के मुताबिक अभियोगी ने शादी में कूलर, फ्रिज, मोटरसाइकिल आदि दहेज में दिया था।

आरोप है कि मायके से ससुराल आने पर पति कुलदीप, सास सावित्री व ननद शैल ने दहेज में बोलेरो न मिलने पर प्रताड़ित करना शुरू कर दिया, समझाने-बुझाने पर भी यह लोग नहीं माने। मांग न पूरी होने के चलते 7 अप्रैल 2010 को तीनों ने मिलकर विवाहिता को जहरीला पदार्थ खिलाकर मार डाला।

सूचना मिलने पर रीतेश व मायके से तमाम लोग भागीपुर गांव आये और घटना के संबंध में 8 अप्रैल 2010 को पति, सास व ननद के खिलाफ दहेज हत्या का मुकदमा दर्ज कराया। विवेचना के दौरान ननद शैल की संलिप्तता न बताते हुए पुलिस ने क्लीनचिट दे दी।

शेष आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया व आरोपपत्र न्यायालय में विवेचक द्वारा दाखिल किया गया। मामले में विचारण के दौरान सास की मृत्यु हो गई। वहीं पति के खिलाफ चल रहे विचारण के दौरान सहायक शासकीय अधिवक्ता सीएल द्विवेदी ने सात गवाहों को परीक्षित कराया।

वहीं बचाव पक्ष ने अपने साक्ष्यों एवं तर्कों को पेश किया। उभयपक्षों को सुनने के पश्चात सत्र न्यायाधीश ने पति कुलदीप को दोषसिद्ध ठहराते हुए उम्रकैद व चार हजार रूपये अर्थदण्ड की सजा सुनाई है।

रिपोर्ट-दीपक मिश्रा 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here