बेटों के विरूद्ध विधवा को मिला न्याय, उपेक्षा से त्रस्त वृद्धा ने तहसील दिवस में दिया था प्रार्थना पत्र

0
68

रायबरेली(ब्यूरो)- 80 वर्षीय विधवा को जमीनी सम्पत्ति में उसका हक न मिलने पर महिला ने तहसील दिवस में बेटो के विरुद्ध शिकायती पत्र देकर न्याय की गुहार लगायी थी। जिसके बाद स्थानीय प्रशासन ने पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचकर उसके पति की सम्पत्ति में तीन बेटो समेत चार भाग कराकर महिला को चैथाई भाग का मालिकाना हक दिलाया।

सलोन कोतवाली क्षेत्र के ग्राम सभा पूरे झाऊ मजरे बिसेया निवासी 80 वर्षीय महारानी पत्नी स्व0 शिवदर्शन के तीन बेटे स्व0राजाराम सिंह, राजबहादुर सिंह तथा कुंवर बहादुर है। तीनो बेटे अपने पिता की सम्पत्ति को तीन भाग में बांटकर अलग अलग रहते है। मां महारानी अपने दूसरे बेटे राजबहादुर के साथ रहती है। 2 मई को महारानी ने तहसील दिवस में शिकायती पत्र देकर जमीनी सम्पत्ति में तीनो बेटो से अपना हक दिलाने की गुहार लगायी थी। जिसके बाद स्थानीय प्रशासन नायब तहसीलदार पवन कुमार शर्मा व उपनिरीक्षक उमा अग्रवाल, उपनिरीक्षक रमेश जायसवाल समेत भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचकर व्रद्ध महिला को जमीनी सम्पत्ति में चैथाई भाग का मालिकाना हक दिलाया। नायब तहसीलदार पवन शर्मा ने बताया कि व्रद्ध बेवा महिला द्दारा तहसील दिवस में शिकायती पत्र दिया गया था कि उसके तीनो बेटो व उसके परिजनों द्दारा उसकी सेवा नही की जाती है। जिसके आधार पर स्थानीय लेखपाल कुलदीप व पुलिस बल के साथ व्रद्ध महिला को चौथाई हिस्से मालिकाना हक दिलाया गया जबकि महिला के सबसे छोटे बेटे कुंवर बहादुर का कहना था कि मेरी मां दूसरे नम्बर के बड़े भाई के साथ रहती है। प्रशासन ने उनकी शिकायत पर उन्हे उनकी जमीन का हक तो दिला दिया।परन्तु मेरी मां को कोई बहला फुसलाकर हम तीनो भाइयो की जमीन को हड़पना चाहता है।

रिपोर्ट- राजेश यादव 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here